बड़ी ख़बरें

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन, शोक में डूबा देश एम्स में पूर्व PM वाजपेयी को देखने पहुंचे वेंकैया नायडू-अमित शाह, हालत बेहद नाजुक अटल बिहारी वाजपेयी को देखने AIIMS पहुंच सकते हैं सीएम योगी आदित्यनाथ देवरिया शेल्‍टर होम: SP देवरिया के साथ हटाए गए CO सदर, विभागीय जांच के आदेश बरेली समेत तीन एयरपोर्ट के नाम बदलने की तैयारी में योगी सरकार, केन्द्र को भेजा प्रस्ताव लखनऊ के बाद सोनभद्र को मिला यूपी का दूसरा सबसे ऊंचा राष्ट्रध्वज अंतरिक्ष मिशन लेकर अर्थव्यवस्था तक, लाल किला से पीएम मोदी के भाषण की बड़ी 10 बातें स्वतंत्रता दिवस: 9 करोड़ पौधे लगाकर इतिहास रचने की तैयारी में उत्तर प्रदेश स्वतंत्रता दिवस पर योगी सरकार ने किया मुख्यमंत्री उत्कृष्ट सेवा पुलिस पदक का ऐलान आजादी का 72वां साल: क्यों शहीद घोषित नहीं हो सके भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु!

कोलकाता: एक लंबी कानूनी लड़ाई के बाद पश्चिम बंगाल में बहुप्रतीक्षित पंचायत चुनाव आज (सोमवार, 14 मई) कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच शुरू हो गया. मतदान सुबह सात बजे शुरू हो गया और यह शाम पांच बजे समाप्त होगा. मतगणना 17 मई को की जायेगी. अगले वर्ष होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले राज्य में होने वाला पंचायत चुनाव अंतिम बड़ा चुनाव है.

कड़ी सुरक्षा के बीच चुनाव
पश्चिम बंगाल राज्य निर्वाचन आयोग के सूत्रों के अनुसार 621 जिला परिषदों, 6,157 पंचायत समितियों और 31,827 ग्राम पंचायतों में चुनाव हो रहा है. चुनाव के लिए सुरक्षा के कड़े प्रबंध किये गये है और असम, ओडिशा, सिक्किम और आंध्र प्रदेश से लगभग 1,500 सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया गया है. सुरक्षा बलों ने सुरक्षा प्रबंधों के तहत राज्य के विभिन्न भागों में बीते 13 मई को मार्च निकाला.

तृणमूल, भाजपा, कांग्रेस ने एक-दूसरे पर लगाए थे आरोप
एक चरण में होने वाले पंचायत चुनाव के लिए तीव्र प्रचार अभियान हुआ था. चुनाव के लिए नामांकन पत्र दाखिल करने के दौरान हुई हिंसा को लेकर राज्य में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस, भाजपा, कांग्रेस और वाममोर्चा के नेताओं ने एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाये. विपक्ष ने आरोप लगाया था कि सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने नामांकन प्रक्रिया के दौरान हिंसा की. तृणमूल ने इन आरोपों को खारिज करते हुए कहा था कि विपक्ष का कोई जनाधार नहीं है और वह चुनाव से बचने का प्रयास कर रहे थे.

ममता बनर्जी ने तृणमूल के लिए नहीं किया था प्रचार
सभी पार्टियों के शीर्ष नेताओं ने इस चुनाव में प्रचार किया. तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी ने प्रचार नहीं किया. उन्होंने लोगों से अपनी सरकार के विकास कार्यों के समर्थन में वोट करने की अपील की. इस बार पंचायत चुनाव में राज्य निर्वाचन आयोग, राज्य सरकार, सत्तारूढ़ टीएमसी और विपक्षी भाजपा, कांग्रेस तथा वाममोर्चा के बीच एक अभूतपूर्व कानूनी लड़ाई देखने को मिली.

खबर हटके | और पढ़ें


लखीमपुर खीरी, आपने पुलिस का असलहा गुम होते सुना होगा. वर्दी चोरी होते हुए सुनी होगी. गहने पैसे चोरी करते सुना होगा, पर पुलिस की पगार गुम होने की खबर...

आगरा, उत्तर प्रदेश के आगरा में सड़क निर्माण में भयंकर लापरवाही का मामला सामने आया है. यहां कंस्ट्रक्शन कंपनी के कर्मचारियों ने एक सोते हुए कुत्ते के ऊपर ही सड़क बनवा दी. गर्म चारकोल और कंक्रीट की वजह से कुत्ते की मौके पर ही जान चली गई. पुलिस ने कंस्ट्रक्शन...

फैजाबाद, फैजाबाद जिला अस्पताल की एक तस्वीर हम आपको दिखाते हैं जिसको देखकर आपको लगेगा कि मानवों में भले ही मानवता कम होती जा रही है लेकिन मवेशियों में मानवता अभी भी बरकरार है. फैजाबाद जिला अस्पताल के जनरल वार्ड के सामने पड़े एक घायल पर आने जाने वाले लोगों...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 151187