बड़ी ख़बरें

आपातकाल विशेष : ...जब प्रधानमंत्री इंदिरा को लगने लगा था 'डर', और मंत्रियों को सताने लगा था गिरफ्तारी का 'खौफ' योगी सरकार पर हमलों में 'लिपटीं' ओम प्रकाश राजभर की चुनावी तैयारियां मुजफ्फरनगर: कबाड़ की दुकान में भीषण विस्फोट, 4 की मौत CM योगी का अयोध्या दौरा, कार्यक्रम स्थल पर लगी 'केसरिया' कुर्सियां पाकिस्तान के नंबरों से आ रहे PORN मैसेज, महिला पहुंची SSP के पास लोकसभा चुनाव से पहले सरकार करती है ज्यादा खर्च, जानें क्या कहते हैं आंकड़े देवगौड़ा की कुमारस्वामी को सलाह, 'कावेरी मुद्दे पर न करें सुप्रीम कोर्ट या केंद्र का विरोध' पासपोर्ट विवादः सुषमा स्वराज ने लाइक किए आलोचकों के ट्वीट, कहा- 'ऐसा सम्मान मिला' AMU और जामिया में दलितों को आरक्षण की वकालत नहीं करता विपक्ष: सीएम योगी मेरठ में सिरफिरे ने की ताबड़तोड़ फायरिंग

नागपुर, पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने गुरुवार को नागपुर स्थित संघ मुख्यालय में स्वयंसेवकों को संबोधित किया. 'राष्ट्र, राष्ट्रवाद और देशप्रेम' के बारे में अपने विचार साझा करते हुए पूर्व राष्ट्रपति ने कहा कि भारत की आत्मा 'बहुलतावाद और सहिष्णुता' में बसती है. मुखर्जी ने करते हुए कहा कि भारत में हम अपनी ताकत सहिष्णुता से प्राप्त करते हैं और बहुलवाद का सम्मान करते हैं. हम अपनी विविधता का उत्सव मनाते हैं. 

उन्होंने प्राचीन भारत से लेकर देश के स्वतंत्रता आंदोलत तक के इतिहास का उल्लेख करते हुए कहा कि हमारा राष्ट्रवाद ‘वसुधैव कुटुम्बकम्’ तथा ‘सर्वे भवन्तु सुखिन:..’ जैसे विचारों पर आधारित है. उन्होंने कहा कि घृणा और असहिष्णुता से हमारी राष्ट्रीयता कमजोर होती है. वहीं दूसरी तरफ प्रणब मुखर्जी की बेटी शमिष्ठा मुखर्जी ने कहा कि जिस बात का उन्हें डर था, वही हुआ. उन्होंने आरोप लगाया कि जिसका डर था, भाजपा/आरएसएस के 'डर्टी ट्रिक्स डिपार्टमेंट' ने वही किया. उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर छेड़छाड़ की गई तस्वीरों में ऐसा नजर आ रहा है कि पूर्व राष्ट्रपति संघ नेताओं और कार्यकर्ताओं की तरह अभिवादन कर रहे हैं. शर्मिष्ठा मुखर्जी ने उनके आरएसएस के कार्यक्रम में जाने का विरोध किया था और कल ट्विटर पर अपने पोस्ट के जरिये उन्होंने अपनी नाखुशी भी जाहिर की थी.

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के गुरुवार को नागपुर पहुंचते ही सियासी गलियारों में जैसे खलबली मच गई. अलग-अलग सियासी प्रतिक्रियाओं ने देश की सियायत का बंटा हुआ चेहरा दिखा दिया. लेकिन प्रणब दा के भाषण ने देश की राजनीति से परे देश की अखंडता और विविधता को सर्वोपरी बना दिया. पूर्व राष्ट्रपति के भाषण ने भारत के शानदार इतिहास की भव्य तस्वीर पेश की है. 

प्रणब दा के भाषण ने भारत की विविधिता में एकता को भारत की बुनियाद बताया. भारत की 5 हजार साल पुरानी संस्कृति की ऐतिहासिक धरोहर की चमक प्रणब दा के भाषण में साफ झलक रही थी. राज्य स्तर पर भले ही हमारा सिस्टम बदल गया हो लेकिन हमारे संस्कार वही हैं. प्रणब ने अपने भाषण के जरिए बार-बार भारत की अनेकता में एकता, अखंडता और धर्मनिरपेक्षता को याद दिलाया. आरएसएस प्रचार प्रमुख अरुण कुमार ने संघ के कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए प्रणव मुखर्जी को धन्यावाद दिया.

कई टि्वटर यूजर्स ने ऐसी तस्वीरें शेयर की हैं, जिसमें पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी आरएसएस स्वयंसेवकों की मुद्रा में प्रणाम करते नज़र आ रहे हैं. प्रणब की बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी ने इन तस्वीरों को लेकर बीजेपी और आरएसएस पर नारज़गी जताई है. 

खबर हटके | और पढ़ें


आगरा, उत्तर प्रदेश के आगरा में सड़क निर्माण में भयंकर लापरवाही का मामला सामने आया है. यहां कंस्ट्रक्शन कंपनी के कर्मचारियों ने एक सोते हुए कुत्ते के ऊपर ही सड़क...

फैजाबाद, फैजाबाद जिला अस्पताल की एक तस्वीर हम आपको दिखाते हैं जिसको देखकर आपको लगेगा कि मानवों में भले ही मानवता कम होती जा रही है लेकिन मवेशियों में मानवता अभी भी बरकरार है. फैजाबाद जिला अस्पताल के जनरल वार्ड के सामने पड़े एक घायल पर आने जाने वाले लोगों...

जौनपुर, आपने खाने के शौक़ीन तो बहुत देखे होंगे, लेकिन हम आपको एक ऐसे अजीब इंसान के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसकी पसंद सुनकर आप हैरान रह जाएंगे. जी हां, जौनपुर का एक शख्स पिछले पंद्रह सालों से प्रतिदिन मिट्टी के साथ चूना खाता चला आ रहा है....

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 139609