बड़ी ख़बरें

सामने आया 'यूपी के 'शिक्षा विभाग' का ये 'बड़ा गड़बड़झाला' , STF ने किया खुलासा, मचा हडकंप पुलिस भर्ती परीक्षा: एम-सील का इस्तेमाल कर बायोमेट्रिक मशीन को देते थे चकमा BJP-PDP गठबंधन टूटने की खुशी में सांसद पुनिया की फिसली जुबान, तिरंगे को बताया भाजपा का झंडा मेरठ के भाजपा नेता के जन्मदिन समारोह में हर्ष फायरिंग प्रमोशन में आरक्षण: यूपी में सियासी भूचाल की आहट, राज्य कर्मचारी भी बंटे ऑपरेशन ऑल आउट : BJP-PDP गठबंधन टूटते ही बना ली गई 180 आतंकियों की 'हिट लिस्ट' मुंबई जा रही फ्लाइट में है बम, बचा सकते हो तो बचा लो! UNESCO के महानिदेशक ने की राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की हत्या की निंदा पाकिस्तान : मतदान से पहले चुनाव आयोग ने दिया बड़े नेताओं को झटका, अब्बासी, इमरान खान के नामांकन पत्र खारिज तमिलनाडु की अनुकृति वास ने जीता मिस इंडिया का खिताब, मिस वर्ल्ड मानुषी छिल्लर ने पहनाया ताज

ठाणे: पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने रविवार (3 जून) को यहां कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था ऐसी कार की तरह हो गई है जिसकी तीन टायरें पंक्चर हैं. उन्होंने पेट्रोल-डीजल सहित अन्य चीजों की बढ़ती कीमतों पर भी मोदी सरकार को आड़े हाथ लिया. कांग्रेस की महाराष्ट्र इकाई की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए चिदंबरम ने कहा, ‘‘निजी निवेश, निजी उपभोग, निर्यात और सरकारी खर्च किसी अर्थव्यवस्था के चार वृद्धि इंजन (ग्रोथ इंजन) हैं. यह किसी कार की चार टायरों की तरह हैं. यदि एक या दो टायरें पंक्चर हों तो गाड़ी धीमी पड़ जाती है, लेकिन हमारे यहां तो तीन टायरें पंक्चर हो चुकी हैं.’’

उन्होंने कहा कि सरकारी खर्च सिर्फ स्वास्थ्य देखभाल एवं कुछ अन्य सुविधाओं में जारी है. कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘इस खर्च को बनाए रखने के लिए सरकार ने पेट्रोल, डीजल और यहां तक कि एलपीजी (रसोई गैस) पर भी कर लगाना जारी रखा है. यह उन करों के नाम पर लोगों से धन वसूली कर रही है और इनमें से कुछ पैसे जनसुविधाओं पर खर्च कर रही है.’’ उन्होंने सवाल किया कि क्या आपने हाल में बिजली के क्षेत्र में कोई निवेश देखा है. पूर्व वित्त मंत्री ने वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के ‘‘पांच स्लैब’’ के लिए भी मोदी सरकार की आलोचना की.

पेट्रोल की कीमत 25 रुपये प्रति लीटर तक कम की जा सकती हैं : चिदंबरम
इससे पहले तेल की लगातार बढ़ती कीमतों को लेकर कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया था. पूर्व वित्त मंत्री ने दावा किया था कि तेल की कीमतें 25 रुपए प्रति लीटर तक कम की जा सकती हैं, लेकिन सरकार अपने फायदे के लिए कीमतें कम नहीं कर रही. चिदंबरम ने बीते 23 मई को को ट्विटर पर कहा था, "कीमतें 25 रुपए प्रति लीटर तक कम की जा सकती हैं, लेकिन सरकार ऐसा नहीं करेगी. वे पेट्रोल की कीमत एक या दो रुपये कम करके लोगों को धोखा देंगे."

चिंदबरम ने कहा, "सरकार को पेट्रोल पर प्रति लीटर 25 रुपए का मुनाफा हो रहा है. यह पैसों पर आम उपभोक्ताओं का हक है." उन्होंने कहा, "केंद्र सरकार कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट से प्रति लीटर पेट्रोल पर 15 रुपए बचा रही है और इसके अलावा वह प्रति लीटर पेट्रोल पर 10 रुपए का अतिरिक्त कर भी लगा रही है."

खबर हटके | और पढ़ें


आगरा, उत्तर प्रदेश के आगरा में सड़क निर्माण में भयंकर लापरवाही का मामला सामने आया है. यहां कंस्ट्रक्शन कंपनी के कर्मचारियों ने एक सोते हुए कुत्ते के ऊपर ही सड़क...

फैजाबाद, फैजाबाद जिला अस्पताल की एक तस्वीर हम आपको दिखाते हैं जिसको देखकर आपको लगेगा कि मानवों में भले ही मानवता कम होती जा रही है लेकिन मवेशियों में मानवता अभी भी बरकरार है. फैजाबाद जिला अस्पताल के जनरल वार्ड के सामने पड़े एक घायल पर आने जाने वाले लोगों...

जौनपुर, आपने खाने के शौक़ीन तो बहुत देखे होंगे, लेकिन हम आपको एक ऐसे अजीब इंसान के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसकी पसंद सुनकर आप हैरान रह जाएंगे. जी हां, जौनपुर का एक शख्स पिछले पंद्रह सालों से प्रतिदिन मिट्टी के साथ चूना खाता चला आ रहा है....

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 137031