बड़ी ख़बरें

अंतरिक्ष मिशन लेकर अर्थव्यवस्था तक, लाल किला से पीएम मोदी के भाषण की बड़ी 10 बातें स्वतंत्रता दिवस: 9 करोड़ पौधे लगाकर इतिहास रचने की तैयारी में उत्तर प्रदेश स्वतंत्रता दिवस पर योगी सरकार ने किया मुख्यमंत्री उत्कृष्ट सेवा पुलिस पदक का ऐलान आजादी का 72वां साल: क्यों शहीद घोषित नहीं हो सके भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु! पीएम मोदी ने लाल किले से दी खुशखबरी- 2022 तक अंतरिक्ष में होंगे भारतीय पूर्णिया देश की दूसरी ऐसी जगह, जहां आधी रात में फहराया जाता है तिरंगा यूपी के सबसे बड़े स्कूल CMS में रेप जैसी वरदात, छात्रों ने किया स्कूल के बाहर प्रदर्शन पंचतत्व में विलीन हुए महाकवि गोपालदास नीरज लखनऊ विश्वविद्यालय मामला : राज्यपाल से मिला सपा नेताओं का प्रतिनिधिमंडल इस मामले में शाहरुख पर बिल्कुल भरोसा नहीं करतीं गौरी खान!

पटना, बिहार में सत्‍तारूढ़ जनता दल यूनाइटेड(जदयू)-बीजेपी के बीच सब कुछ ठीक-ठाक नहीं चलने की अटकलों के बीच नीतीश कुमार की पार्टी ने 2019 के लिहाज से बड़ा दांव चल दिया है. रविवार को मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार की जदयू के वरिष्‍ठ नेताओं की बैठक के बाद प्रवक्‍ता अजय आलोक ने कहा कि अगले लोकसभा में उनकी पार्टी बिहार में 25 सीटों और बीजेपी 15 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. इसके साथ ही पार्टी ने स्‍पष्‍ट किया कि नीतीश कुमार ही बिहार में एनडीए का चेहरा होंगे और जिस तरह दिल्‍ली में बीजेपी 'बड़े भाई' की भूमिका में है, उसी तरह बिहार में जदयू की भूमिका होगी.

2014 में NDA को मिली थी 31 सीटें
यहीं से बड़ा सवाल उठ रहा है कि आम चुनावों के लिहाज से क्‍या बीजेपी के साथ नीतीश कुमार की 'डील' हो गई है? लेकिन बीजेपी की रहस्‍यमयी 'चुप्‍पी' कुछ और ही इशारा करती है. दरअसल 2014 के लोकसभा चुनावों में बिहार की 40 लोकसभा सीटों में से बीजेपी ने अकेले 22 सीटें जीती थीं. उसकी सहयोगी रामविलास पासवान की लोजपा ने छह और उपेंद्र कुशवाहा की रालोसपा ने 3 सीटें जीती थीं. इस तरह एनडीए को कुल 31 सीटें मिली थीं.

वहीं जदयू को केवल दो, राजद को चार, कांग्रेस को दो और राकांपा को एक सीट मिली थी. पिछली बार इन सभी दलों ने अलग-अलग चुनाव लड़ा था. उस वक्‍त नीतीश कुमार एनडीए से अलग हो चुके थे. 2015 में एनडीए कैंप में वापसी के बाद बिहार में नीतीश कुमार को क्‍या 25 सीटें देने पर बीजेपी राजी हो जाएगी? इस वक्‍त यही सबसे बड़ा सवाल है. ऐसा इसलिए क्‍योंकि फिर लोजपा और रालोसपा का क्‍या होगा? क्‍या बीजेपी अपने खाते से उनको सीटें देगी? फिर बीजेपी के लिए क्‍या बचेगा?

जदयू का दांव
यह भी कहा जा रहा है कि सियासत की सधी चाल चलने में माहिर नीतीश कुमार ने अपनी तरफ से 'बड़े भाई' की भूमिका का दांव चलकर क्‍या बीजेपी पर दबाव बढ़ा दिया है. राजनीतिक विश्‍लेषकों के मुताबिक जदयू ने इसके माध्‍यम से यह जताने का प्रयास किया है कि भले ही पिछली बार एनडीए को चाहे जैसी कामयाबी मिली हो लेकिन इस बार सीटों की सौदेबाजी में वह बीजेपी से कम से कम बराबरी की बात करेगी. इसके साथ ही लोजपा और रालोसपा जैसी पार्टियों का ध्‍यान रखने की जिम्‍मेदारी बीजेपी की होगी.

पासवान फैक्‍टर
इसके साथ ही जदयू ने स्‍पष्‍ट किया है कि वह बिहार के लिए केंद्र से विशेष राज्‍य के दर्जे की मांग को और तेजी से उठाएगी. यह नीतीश कुमार की सोई हुई मांग है जिसको चुनाव से ऐन पहले फिर से जिंदा किया जा रहा है. आंध्र प्रदेश के मुख्‍यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू द्वारा इस मुद्दे पर एनडीए से अलग होने के बाद बिहार में इस मुद्दे ने फिर से तूल पकड़ना शुरू कर दिया है. आश्‍चर्यजनक रूप से केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने भी जदयू की इस मांग का समर्थन किया है. इसके पीछे भी सियासी जानकारों का मानना है कि इसके माध्‍यम से क्‍या रामविलास पासवान चुनावों में अपने लिए सीट-शेयरिंग में कोई रास्‍ता निकालने की कोशिशों में हैं?

आखिर पिछली बार छह लोकसभा सीटें जीतने वाली लोजपा भी बिहार में एक बड़ी ताकत है. हालांकि मार्च में नवादा और कहलगांव(भागलपुर) में सांप्रदायिक दंगों के बाद कहा जा रहा था कि नीतीश कुमार और बीजेपी में दूरियां बढ़ी हैं, उसी कड़ी में पासवान के साथ उनकी बढ़ती मित्रता को बीजेपी से दूर होने की स्थिति में 'प्‍लान बी' के रूप में देखा जा रहा था. बहरहाल समीकरण चाहें जो हों, नीतीश कुमार ने नया दांव चलकर फिलहाल बीजेपी पर दबाव तो बढ़ा ही दिया है.

खबर हटके | और पढ़ें


लखीमपुर खीरी, आपने पुलिस का असलहा गुम होते सुना होगा. वर्दी चोरी होते हुए सुनी होगी. गहने पैसे चोरी करते सुना होगा, पर पुलिस की पगार गुम होने की खबर...

आगरा, उत्तर प्रदेश के आगरा में सड़क निर्माण में भयंकर लापरवाही का मामला सामने आया है. यहां कंस्ट्रक्शन कंपनी के कर्मचारियों ने एक सोते हुए कुत्ते के ऊपर ही सड़क बनवा दी. गर्म चारकोल और कंक्रीट की वजह से कुत्ते की मौके पर ही जान चली गई. पुलिस ने कंस्ट्रक्शन...

फैजाबाद, फैजाबाद जिला अस्पताल की एक तस्वीर हम आपको दिखाते हैं जिसको देखकर आपको लगेगा कि मानवों में भले ही मानवता कम होती जा रही है लेकिन मवेशियों में मानवता अभी भी बरकरार है. फैजाबाद जिला अस्पताल के जनरल वार्ड के सामने पड़े एक घायल पर आने जाने वाले लोगों...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 151013