बड़ी ख़बरें

पंचतत्व में विलीन हुए महाकवि गोपालदास नीरज लखनऊ विश्वविद्यालय मामला : राज्यपाल से मिला सपा नेताओं का प्रतिनिधिमंडल इस मामले में शाहरुख पर बिल्कुल भरोसा नहीं करतीं गौरी खान! तीसरे टी20 में रोहित शर्मा नहीं, 18 गेंदों ने किया इंग्लैंड का 'काम-तमाम'! थाईलैंडः बौद्ध भिक्षु रह चुका है गुफा में फंसा कोच, बच्चों को इतने दिन यूं रखा जिंदा ब्रिटेन में घर मेरे नाम पर नहीं, कोई इन्‍हें छू भी नहीं सकता: विजय माल्‍या कुख्यात डॉन मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में गोली मारकर हत्या, योगी ने दिए न्यायिक जांच के आदेश बुरहान की दूसरी बरसी पर हिज्बुल में शामिल हुआ IPS ऑफिसर का भाई, मेडिकल की कर रहा था पढ़ाई नाम में क्‍या रखा है? इन आशा वर्कर्स से पूछिए जो इसी नाम का कंडोम बांटती हैं तो ऐसे प्रेम प्रकाश सिंह बन गया माफिया डॉन 'मुन्ना बजरंगी', ये अब तक की 'पूरी कहानी'

अब गांजे से बनी दवा से होगा मिर्गी का इलाज, US ने दी मंजूरी

न्यूयार्क, अमेरिकी स्वास्थ्य नियामकों ने सोमवार को मैरियुआना (गांजा) से बनी पहली दवा को मंजूरी दे दी है. इस कदम को मील का पत्थर माना जा रहा है, जिसके जरिये एक ऐसी दवा पर और ज्यादा शोध हो सकता है जो संघीय कानून के तहत अवैध है.

फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने 2 साल और उससे ज्यादा उम्र के मरीजों में मिर्गी के दो दुर्लभ प्रकारों का इलाज करने के लिए एपिडियोलेक्स नाम की दवा को मंजूरी दी है. हालांकि यह पूरी तरह से गांजा नहीं है. स्ट्रॉबेरी-फ्लेवर सिरप गांजे के पौधे में पाए जाने वाले रासायन का एक शुद्ध रूप है और इसके इस्तेमाल से व्यक्ति को उस हद तक नशा नहीं होता.

हालांकि यह अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि क्यों कैनाबीडियोल या सीबीडी कहा जाने वाला घटक, मिर्गी से पीड़ित लोगों के दौरे को कम कर देता है. इससे पहले ब्रिटिश ड्रगमेकर GW फार्मसूटिकल ने कई कानूनी बाधाओं को पारकर 500 से ज्यादा बच्चों और व्यस्कों पर इस ड्रग पर स्टडी की थी, जिनके दौरे का मुश्किल से इलाज हो पाता था.

एफडीए के अधिकारियों ने कहा कि पुरानी मिर्गी की दवाओं के साथ मिलाए जाने पर दवाओं ने दौरे को कम  कर दिया. एफडीए प्रमुख स्कॉट गॉटलिब ने कहा कि उनकी एजेंसी ने 'कई वर्षों तक' कैनाबिस से निकले उत्पादों पर शोध का समर्थन किया है.

गॉटलिब ने कहा, यह अप्रूवल इस बात को याद दिलाता है कि गांजे में मौजूद तत्वों का अगर उचित मूल्यांकन हो तो उनके जरिये महत्वपूर्ण चिकित्सीय उपचार हो सकते हैं. एफडीए इससे पहले एचआईवी के रोगियों में वजन घटाने सहित गंभीर बीमारियों के इलाज में गांजे के एक अन्य सिंथेटिक वर्जन को मंजूरी दे दी है.

एपिडियोलेक्स अनिवार्य रूप से फार्मसूटिकल-ग्रेड वर्जन सीबीडी ऑयल है, जिसे कुछ माता-पिता पहले से ही मिर्गी वाले बच्चों के इलाज के लिए उपयोग करते हैं. गांजे के पौधे में 100 से अधिक रसायनों में से एक सीबीडी भी है. इसमें टीएचसी नहीं है, जिसके चलते इसका उपयोग करने पर दिमाग पर असर होता है.

खबर हटके | और पढ़ें


लखीमपुर खीरी, आपने पुलिस का असलहा गुम होते सुना होगा. वर्दी चोरी होते हुए सुनी होगी. गहने पैसे चोरी करते सुना होगा, पर पुलिस की पगार गुम होने की खबर...

आगरा, उत्तर प्रदेश के आगरा में सड़क निर्माण में भयंकर लापरवाही का मामला सामने आया है. यहां कंस्ट्रक्शन कंपनी के कर्मचारियों ने एक सोते हुए कुत्ते के ऊपर ही सड़क बनवा दी. गर्म चारकोल और कंक्रीट की वजह से कुत्ते की मौके पर ही जान चली गई. पुलिस ने कंस्ट्रक्शन...

फैजाबाद, फैजाबाद जिला अस्पताल की एक तस्वीर हम आपको दिखाते हैं जिसको देखकर आपको लगेगा कि मानवों में भले ही मानवता कम होती जा रही है लेकिन मवेशियों में मानवता अभी भी बरकरार है. फैजाबाद जिला अस्पताल के जनरल वार्ड के सामने पड़े एक घायल पर आने जाने वाले लोगों...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 145239