बड़ी ख़बरें

यदि मेरी हत्या होती उसकी पूरी जिम्मेदारी एसपी हारदोई की होगी : बीजेपी विधायक कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण समारोह में बिछुड़ी बहनों की तरह मिलीं मायावती-सोनिया बीजेपी विधायकों से रंगदारी मांगने के मामले में एडीजी ने गठित की एसआईटी बुलंदशहर में कुत्तों का आतंक, 24 घंटे में 150 बने शिकार सपा का पलटवार : जिनके हाथ खुद दंगों में रमे है उनका बोलना हास्यापद यूपी : इस मदरसे में एक ही छत के नीचे होता है कुरान और गीता का पाठ पूर्व सीएम ही नहीं इस सियासी दिग्गजों का भी है सरकारी बंगले पर कब्जा मदरसा पाठ्यक्रम के आधुनिकीकरण का विरोध कट्टरपंथी सोच है : बीजेपी समाजवादी पार्टी देश की सबसे अमीर क्षेत्रीय पार्टी, 32 दलों को पछाड़ा मदरसों में होगी NCERT पाठ्यक्रम से पढ़ाई, अब हिंदी-अंग्रेजी की भी तालीम

ये LOVE STORY इतनी रोमांटिक है कि आपको भी प्यार हो जाएगा

नई दिल्ली: फेसबुक पर एक लव स्टोरी लोगों का दिल जीत रही है. ये कहानी इतनी रोमांटिक है कि आप भी शायद प्यार में पड़ना चाहेंगे. खास बात ये है कि जिस कपल की ये कहानी है उनकी ये लव स्टोरी भी फेसबुक के जरिए ही शुरू हुई थी. स्नेहा चौधरी के लिए घरवाले लड़का तलाश रहे थे. इस बीच अचानक फेसबुक पर हर्ष मेहता का चैटबॉक्स में एक मैसेज आया, यहीं से शुरू हुई दोनों की प्यार की कहानी. दोनों के बीच मीलों का फासला था. वो कभी मिले भी नहीं थे. लेकिन कुछ ही महीने और लड़के ने लड़की को शादी के लिए प्रपोज कर दिया. वो पहली बार शादी से दो दिन पहले मिले. आज दोनों की शादी को तीन साल हो चुके हैं, लेकिन उनके बीच प्यार बिल्कुल भी कम नहीं हुआ है और इस बात का सबूत कपल का एफबी पर शेयर किया गया फोटो है.

पढ़ें, फेसबुक पर शेयर हुई रोमांटिक लव स्टोरी
'मैं 28 साल की थी जब मैंने तय किया कि मैं शादी के लिए तैयार हूं. मैंने कुछ लड़कों से बात करना शुरू की, लेकिन किसी से भी मुझे जुड़ाव महसूस नहीं हुआ. एक दिन मैं अपने फेसबुक पर स्क्रॉल कर रही थी कि मेरे फेसबुक चैट पर हर्ष नाम के एक शख्स का मैसेज आया- ''क्या हम एक-दूसरे को जानते हैं?'' आप चाहे मुझे पागल कहें, लेकिन मैंने चांस लिया और उसी समय रिप्लाई किया. उसके बाद से हमारे बीच रोज बातचीत होना शुरू हो गई. हमारे बीच जो कॉमन फ्रेंड्स थे उन्होंने भी इसमें अहम रोल निभाया. हर्ष ऑस्ट्रेलिया में था और मैं मुंबई में, लेकिन हमें कभी भी महसूस नहीं हुआ कि हमारे बीच दूरी है.

हमने एक महीने बात की लेकिन लगा जैसे एक साल से हम एक-दूसरे को जानते हों. समय बहुत धीमे गुजर रहा था. हम लगातार बातें कर रहे थे, लेकिन लगता था कि इतना काफी नहीं है. मुझे याद है कि एक दिन हमने 18 घंटे तक बातें की थीं. फोन की बैटरी खत्म हो रही थी, तो हमने तुरंत अपने लैपटॉप पर स्काइप ऑन कर लिया. मुझे हर्ष की लत लग चुकी थी. एक दिन भी बात न हो तो लगता था कि दिन पूरा नहीं हुआ.

अपना स्टेटस ''आई थिंक आई एम इन लव'' अपडेट करने के बाद से वो मुझे हमेशा बातचीत के आखिर में ''आई लव यू'' बोलने लगा. मैं सिर्फ ''ओके, थैंक यू'' कहकर रिप्लाई करती थी. लेकिन एक दिन मुझसे भी रहा नहीं गया और मैंने भी उसे ''आई लव यू'' कह दिया.

इसके कुछ ही दिनों बाद मेरे पास एक पार्सल आया जिसमें पेबल्स (छोटे गोल पत्थर) थे. मैंने एक बार उसे एक बार बताया था कि कैसे पेंगुइन अपना प्यार का इजहार करने के लिए सबसे सुंदर पेबल्स तलाशते हैं और फिर अपना प्यार का इजहार करते हुए उसे अपने मेट को देते हैं. बॉक्स में पेबल्स को देखते ही मैं इसका मतलब समझ गई थी. जब मैंने तीनों पेबल्स को उठाया तो उस पर ''विल यू मैरी मी?'' लिखा हुआ था. आप इसे पागलपन कहेंगे लेकिन मैंने एक मिनट भी बिना झिझके प्रपोजल को हां कह दिया.

मुझे पता है आप क्या सोच रहे हैं- हम कभी नहीं मिले थे, न ही एक-दूसरे को जानते थे, लेकिन जब आप प्यार को महसूस करते हैं तो ये सब मायने नहीं रखता. प्यार की कोई टाइमलाइन नहीं होती है. मैं चाहे तो किसी के साथ 10 साल बिता लेती और मुझे उससे खास जुड़ाव भी महसूस नहीं होता, या फिर मैं किसी ऐसे शख्स के साथ खुशी से रह रही होती जिससे मैं बस एक दिन पहले मिली होती.

कोर्ट मैरिज से दो दिन पहले वो ऑस्ट्रेलिया से मुंबई आया. तब हम पहली बार मिले. वो पल बेहद खास था. हम एयरपोर्ट पर एक-दूसरे को गले लगाए रहे. आखिरकार एक गार्ड को आकर हमें वहां से जाने के लिए कहना पड़ा.

तीन साल बाद, हम अभी भी साथ है. एक-दूसरे को बेपनाह प्यार करते हुए, 90 के दशक के गाने सुनते हुए यूं ही अचानक रोड ट्रिप्स पर जाते हुए और इस बात पर बहस करते हुए कि आखिर किसने किसको पहले फ्रेंड के रूप में फेसबुक पर ऐड किया था.'

खबर हटके | और पढ़ें


लखनऊ, उन्नाव रेप केस में सीबीआई को जांच करते करीब एक महीने से भी ज्यादा हो चुके हैं. सूत्रों के अनुसार सीबीआई के पास इस बात के 'ठोस सबूत' हैं,...

हम हर दिन होने वाली घटनाओं को अपने दिमाग की तह में बिठा लेते हैं, समय बितने के साथ कभी-कभी हम उनको याद भी करते हैं. लेकिन हमारे याददाश्त की भी एक सीमा है.

वक्त के साथ-साथ हम बहुत सी बातें भूल भी जाते हैं. इसे मेमोरी लॉस कहते हैं और...

अगर आप से कहा जाए कि आप आंखों पर पट्टी बांधकर किताब पढ़ें तो आप सोच में पड़ जाएंगे कि ऐसा कैसे मुमकिन है. बेशक ये दूसरों के लिए नामुमकिन सी चीज़ है पर अब्दुल बिलाल खान के लिए बाएं हाथ का खेल है. बिलाल आंखों पर पट्टी बांधकर ना...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 129738