बड़ी ख़बरें

बीजेपी हेडक्वार्टर लाया गया वाजपेयी का पार्थिव शरीर, शाम 4 बजे होगा अंतिम संस्कार अटल बिहारी वाजपेयी के सम्मान में सुप्रीम कोर्ट में आज 1 बजे तक ही होगा कामकाज 7 दशक तक लखनऊ की 'रगों' में 'बहते' रहे अटल, हर सड़क पर बिछी हैं यादें अटल जी के निधन के शोक में आज यूपी में सार्वजनिक अवकाश, बाजार भी रहेंगे बंद पाकिस्‍तान भी होगा अटल जी के अंतिम संस्‍कार में शामिल, यह नेता करेगा शिरकत भारत-पाक संबंधों के सुधार के लिए वाजपेयी जी के प्रयासों को हमेशा याद किया जाएगा : इमरान खान पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन, शोक में डूबा देश एम्स में पूर्व PM वाजपेयी को देखने पहुंचे वेंकैया नायडू-अमित शाह, हालत बेहद नाजुक अटल बिहारी वाजपेयी को देखने AIIMS पहुंच सकते हैं सीएम योगी आदित्यनाथ देवरिया शेल्‍टर होम: SP देवरिया के साथ हटाए गए CO सदर, विभागीय जांच के आदेश

सहारनपुर: हत्या या एक्सीडेंटल डेथ? खून के धब्बे धोने का VIDEO आया सामने

सहारनपुर, सहारनपुर में भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष कमल वालिया के भाई सचिन वालिया की मौत की गुत्थी उलझ गई है. जहां पुलिस इसे संदिग्ध मान कर तफ्तीश में जुटी है, वहीं परिजनों का मानना है कि उसकी हत्या की गई है. इस बीच एक वीडियो सामने आया. जिसे लेकर पुलिस का दावा है कि यह मौके वारदात की है. वीडियो में सचिन वालिया के घर वाले सड़क पर पड़े खून के धब्बे को धोते नजर आ रहे हैं.

एसएसपी बबलू कुमार के मुताबिक वीडियो को लोकल इंटेलिजेंस यूनिट के कर्मचारी ने मोबाइल से शूट किया है. एलआईयू पुलिस कर्मी के मुताबिक जब मौका-ए-वारदात पर उसने तफ्तीश की तो उन्हें बताया गया कि कोई छत से गिर गया था. जिसके खून के धब्बे हैं. अब साफ किया जा रहा है.

मामले में एसएसपी का कहना है कि प्रथम दृष्टया मामला संदिग्ध लग रहा है. मौके का मुआयना किया गया है. छानबीन जारी है. जल्द ही मामले का खुलासा किया जाएगा. उनका कहना था कि परिवार वाले भी सदमे में हैं. वह भी यह नहीं बता पा रहे हैं कि घटना कहां हुई.

इससे पहले जिला अस्पताल में परिजनों ने सचिन की मौत पर जमकर हंगामा किया. उनका आरोप था कि हत्या प्रशासन की वजह से हुई है. महाराणा प्रताप की जयंती को लेकर भीम आर्मी की तरफ से चेतावनी दी गई थी. बावजूद इसके जिला प्रशासन ने जयंती के लिए अनुमति दी.  अस्पताल के बाहर भी उस समय माहौल ख़राब हो गया जब परिजनों ने शव के पोस्टमार्टम का विरोध किया. जिसके बाद पुलिस को हल्का बल भी प्रयोग करना पड़ा.
आपको बता दें कि पिछले साल आज ही के दिन इसी रामनगर गांव में दलितों ने हिंसक प्रदर्शन किया था. पुलिस पर पथराव, फायरिंग की गई थी. अधिकारियों को पीटा गया था. दर्जनों वाहनों को आग के हवाले कर दिया गया था. दरअसल दलितों पर अत्याचार के खिलाफ तब पंचायत कर रहे भीम आर्मी और दलित संगठनों से जुड़े लोगों को पुलिस ने खदेड़ दिया था. जिसके बाद ये लोग रामनगर गांव में इकट्ठा हुए थे और फिर भीड़ हिंसा पर उतारू हो गई थी. हालांकि बाद में भीम आर्मी के मुखिया चन्द्रशेखर रावण को हिंसा का मास्टरमाइंड मानते हुए गिरफ्तार कर लिया गया था. रावण आज भी रासुका के तहत जेल में बंद है.

आज हुई घटना ने प्रशासनिक लापरवाही को भी उजागर किया है. दरअसल रामनगर गांव दलित बहुल है और यहां पर राजपूत समाज द्वारा महाराणा प्रताप भवन बनवाया गया है. राजपूत समाज द्वारा पिछले कुछ दिनों से यहां नौ मई को महाराणा प्रताप जयन्ती कार्यक्रम की तैयारियां की जा रही थी. ज़िला प्रशासन ने पहले किसी भी कार्यक्रम की अनुमति नहीं दी थी लेकिन कल एक नाटकीय घटनाक्रम में डीएम ने सिर्फ 150 लोगों को कार्यक्रम करने की अनुमति दी थी. घटना के बाद अब पुलिस अधिकारी लीपा पोती में जुट गई है. एसएसपी बबलू कुमार का कहना है कि कार्यक्रम स्थल पर भारी पुलिस बल मौजूद था. ऐसे में इस तरह की घटना का वहां पर होना संभव नहीं है.

खबर हटके | और पढ़ें


लखीमपुर खीरी, आपने पुलिस का असलहा गुम होते सुना होगा. वर्दी चोरी होते हुए सुनी होगी. गहने पैसे चोरी करते सुना होगा, पर पुलिस की पगार गुम होने की खबर...

आगरा, उत्तर प्रदेश के आगरा में सड़क निर्माण में भयंकर लापरवाही का मामला सामने आया है. यहां कंस्ट्रक्शन कंपनी के कर्मचारियों ने एक सोते हुए कुत्ते के ऊपर ही सड़क बनवा दी. गर्म चारकोल और कंक्रीट की वजह से कुत्ते की मौके पर ही जान चली गई. पुलिस ने कंस्ट्रक्शन...

फैजाबाद, फैजाबाद जिला अस्पताल की एक तस्वीर हम आपको दिखाते हैं जिसको देखकर आपको लगेगा कि मानवों में भले ही मानवता कम होती जा रही है लेकिन मवेशियों में मानवता अभी भी बरकरार है. फैजाबाद जिला अस्पताल के जनरल वार्ड के सामने पड़े एक घायल पर आने जाने वाले लोगों...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 21706