बड़ी ख़बरें

तत्काल और कैंसिल टिकट के लिए रेलवे की नई शुरुआत, अब नहीं होगा आपको नुकसान भारत दुनिया का छठा सबसे अमीर देश, कुल संपत्ति 8,230 अरब डॉलर : रिपोर्ट राहुल गांधी के ‘प्लान बी’ ने पलट दी कर्नाटक की सियासी बाजी डीके शिवकुमार : वो कांग्रेस नेता, जिसकी वजह से कर्नाटक के CM बनेंगे कुमारस्वामी येदियुरप्पा के साथ ऐसा क्यों होता है? कर्नाटक जैसे 'सियासी संकट' में टूटने से कैसे बचाए जाते हैं विधायक? 55 घंटे में ही गिर गयी कर्नाटक में बीजेपी की सरकार, येदियुरप्पा ने दिया मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा कर्नाटक में आज बीजेपी की अग्निपरीक्षा, जानिए कैसे होगा फ्लोर टेस्ट इलाहाबाद: अखाड़ा परिषद नहीं करेगा कुंभ में शाही स्नान का बहिष्कार काशी में अब श्रद्धालु 'क्रूज' पर बैठकर देख सकेंगे विश्व-प्रसिद्ध गंगा आरती

इलाहाबाद: बीजेपी नेता की हत्या मामले में पुलिस की बड़ी लापरवाही आई सामने

लखनऊ, डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या के करीबी बीजेपी नेता पवन केसरी की हत्या मामले में इलाहाबाद पुलिस की बड़ी लापरवाही सामने आयी है. फूलपुर नगर पंचायत के सभासद पवन केसरी ने करीब दो हफ्ते पहले पुलिस अफसरों से मुलाकात कर अनहोनी की आशंका जताते हुए अपने लिए सुरक्षा की मांग की थी. लेकिन पुलिस के आलाधिकारियों ने सभासद की मांग को गम्भीरता से नहीं लिया. जिसकी कीमत पवन केसरी को अपनी जान देकर चुकानी पड़ी. खुद एसएसपी आकाश कुलहरि स्वीकार कर रहे हैं कि पवन केसरी ने सुरक्षा की मौखिक मांग की थी.

हालांकि एसएसपी की दलील है कि पवन केसरी ने किसी मामले विशेष का जिक्र नहीं करते हुए धमकी दिए जाने की बात कही थी और कोई एप्लीकेशन भी नहीं दी थी. वहीं पवन केसरी की हत्या के बाद परिजनों की ओर से मिली नामजद तहरीर के आधार पर पुलिस ने 4 लोगों को हिरासत में लिया है. पुलिस नामजद आरोपियों सोनू और परवेज आलम के साथ ही दो अन्य लोगों से भी पूछताछ कर रही है. वहीं पुलिस पवन के मित्र आरिफ की भूमिका भी संदिग्ध मानकर जांच में जुट गई है.

दरअसल मंगलवार की शाम लगभग 9 बजे बीजेपी सभासद अपने मित्र आरिफ को स्कूटी से उनके घर छोड़ने जा रहे थे तभी बाइक सवार हमलावरों ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर पवन को छलनी कर दिया था. इसके बाद एसआरएन अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टरों ने पवन केसरी को मृत घोषित कर दिया था. एसएसपी आकाश कुलहरि के मुताबिक पवन की हत्या को लेकर हर एंगल पर जांच चल रही है. उनके मुताबिक 17 जनवरी को फूलपुर में सपा नेता शहजादे हत्याकाण्ड से भी हत्या के तार जुड़े हो सकते हैं क्योंकि शहजादे हत्याकाण्ड के आरोपी मनोज तिवारी की पैरवी पवन केसरी कर रहे थे.

एसएसपी के अनुसार पवन केसरी शहजादे मर्डर केस को सीबीसीआईडी को ट्रांसफर करवाना चाहते थे. जिसको लेकर सोनू ने फोन कर पवन को पीछे हटने की धमकी भी दी थी. इसके साथ ही जमीन को लेकर 20 लाख के लेनदेन के एक दूसरे मामले को लेकर भी हत्याकांड की जांच हो रही है. एसएसपी के मुताबिक पुलिस सभी बिन्दुओं पर गहनता से पड़ताल कर रही है और इस हत्याकांड में शामिल अन्य आरोपियों की भी पुलिस जल्द गिरफ्तार कर लेगी. एसएसपी के मुताबिक गोलीबारी घायल एक बाहरी महिला की जांघ में गोली लगी थी, जिसकी हालत अब खतरे से बाहर है.

खबर हटके | और पढ़ें


लखनऊ, उन्नाव रेप केस में सीबीआई को जांच करते करीब एक महीने से भी ज्यादा हो चुके हैं. सूत्रों के अनुसार सीबीआई के पास इस बात के 'ठोस सबूत' हैं,...

हम हर दिन होने वाली घटनाओं को अपने दिमाग की तह में बिठा लेते हैं, समय बितने के साथ कभी-कभी हम उनको याद भी करते हैं. लेकिन हमारे याददाश्त की भी एक सीमा है.

वक्त के साथ-साथ हम बहुत सी बातें भूल भी जाते हैं. इसे मेमोरी लॉस कहते हैं और...

अगर आप से कहा जाए कि आप आंखों पर पट्टी बांधकर किताब पढ़ें तो आप सोच में पड़ जाएंगे कि ऐसा कैसे मुमकिन है. बेशक ये दूसरों के लिए नामुमकिन सी चीज़ है पर अब्दुल बिलाल खान के लिए बाएं हाथ का खेल है. बिलाल आंखों पर पट्टी बांधकर ना...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 128826