बड़ी ख़बरें

तत्काल और कैंसिल टिकट के लिए रेलवे की नई शुरुआत, अब नहीं होगा आपको नुकसान भारत दुनिया का छठा सबसे अमीर देश, कुल संपत्ति 8,230 अरब डॉलर : रिपोर्ट राहुल गांधी के ‘प्लान बी’ ने पलट दी कर्नाटक की सियासी बाजी डीके शिवकुमार : वो कांग्रेस नेता, जिसकी वजह से कर्नाटक के CM बनेंगे कुमारस्वामी येदियुरप्पा के साथ ऐसा क्यों होता है? कर्नाटक जैसे 'सियासी संकट' में टूटने से कैसे बचाए जाते हैं विधायक? 55 घंटे में ही गिर गयी कर्नाटक में बीजेपी की सरकार, येदियुरप्पा ने दिया मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा कर्नाटक में आज बीजेपी की अग्निपरीक्षा, जानिए कैसे होगा फ्लोर टेस्ट इलाहाबाद: अखाड़ा परिषद नहीं करेगा कुंभ में शाही स्नान का बहिष्कार काशी में अब श्रद्धालु 'क्रूज' पर बैठकर देख सकेंगे विश्व-प्रसिद्ध गंगा आरती

रानी मुखर्जी: 'अगर कोई बंटी बबली 2' लेकर आएगा, तो मैं 100 परसेंट करुंगी'

नई दिल्ली: बॉलीवुड में अपने दो दशक लंबे सफर के दौरान अभिनेत्री रानी मुखर्जी ने अपने स्वभाव के अनुसार ही किरदारों का चयन किया है. वे कहती हैं कि वे अपनी फिल्मों से सिर्फ सामाजिक संदेश ही नहीं देना चाहतीं, बल्कि दर्शकों का मनोरंजन भी करना चाहती हूं. सालों तक रानी द्वारा 'गुलाम', 'बिच्छू' और 'बंटी और बबली' से 'नो वन किल्ड जेसिका', 'मर्दानी' और 'हिचकी' में चुने गए किरदारों में विरोधाभास देखा गया. मजबूत भूमिकाओं पर काम करने के प्रश्न पर उन्होंने न्‍यूज एजेंसी आईएएनएस को बताया, "जब फिल्म के चयन की बात आती है तो मैं बहुत स्वाभाविक हूं." उन्होंने कहा, "जिस फिल्म को सुनकर मुझे लगता है कि इसने मेरे दिल को छुआ है या इसकी कहानी बताने लायक है तो मैं उस फिल्म से जुड़ जाती हूं. इसलिए, अब अगर कोई 'बंटी और बबली 2' लेकर आए, मैं 100 फीसदी वह फिल्म करूंगी, जिसमें वे मुझे गाते और नृत्य करते हुए भी देख सकते हैं."

रानी (40) ने कहा कि कहानी से जुड़ना उनके लिए जरूरी है. उन्होंने कहा, "दिन खत्म होने पर इसका कोई अर्थ निकले और कुछ ऐसा हो जिसे करते हुए मुझे आनंद आए. यह पूरी तरह मनोरंजन पर आधारित भी हो सकती है, क्योंकि बतौर कलाकार, मुझे यह तथ्य कभी नहीं भूलना चाहिए कि मैं यहां लोगों का मनोरंजन करने आई हूं."

नई दिल्ली: बॉलीवुड में अपने दो दशक लंबे सफर के दौरान अभिनेत्री रानी मुखर्जी ने अपने स्वभाव के अनुसार ही किरदारों का चयन किया है. वे कहती हैं कि वे अपनी फिल्मों से सिर्फ सामाजिक संदेश ही नहीं देना चाहतीं, बल्कि दर्शकों का मनोरंजन भी करना चाहती हूं. सालों तक रानी द्वारा 'गुलाम', 'बिच्छू' और 'बंटी और बबली' से 'नो वन किल्ड जेसिका', 'मर्दानी' और 'हिचकी' में चुने गए किरदारों में विरोधाभास देखा गया. मजबूत भूमिकाओं पर काम करने के प्रश्न पर उन्होंने न्‍यूज एजेंसी आईएएनएस को बताया, "जब फिल्म के चयन की बात आती है तो मैं बहुत स्वाभाविक हूं." उन्होंने कहा, "जिस फिल्म को सुनकर मुझे लगता है कि इसने मेरे दिल को छुआ है या इसकी कहानी बताने लायक है तो मैं उस फिल्म से जुड़ जाती हूं. इसलिए, अब अगर कोई 'बंटी और बबली 2' लेकर आए, मैं 100 फीसदी वह फिल्म करूंगी, जिसमें वे मुझे गाते और नृत्य करते हुए भी देख सकते हैं."

रानी (40) ने कहा कि कहानी से जुड़ना उनके लिए जरूरी है. उन्होंने कहा, "दिन खत्म होने पर इसका कोई अर्थ निकले और कुछ ऐसा हो जिसे करते हुए मुझे आनंद आए. यह पूरी तरह मनोरंजन पर आधारित भी हो सकती है, क्योंकि बतौर कलाकार, मुझे यह तथ्य कभी नहीं भूलना चाहिए कि मैं यहां लोगों का मनोरंजन करने आई हूं."

हाल ही में रिलीज हुई फिल्‍म 'हिचकी' में रानी एक ऐसे टीचर के किरदार में नजर आईं, जो बार-बार हिचकी आने की बीमारी से परेशान थी. लेकिन वह इस परेशानी से आगे बढ़कर एक स्‍कूल में टीचर बनती हैं और स्‍टूडेंट्स की जिंदगी में परिवर्तन लाती हैं. रानी ने अपने इस इंटरव्‍यू में कहा, "मैं यहां लोगों को सिर्फ नई बातों या कोई सामाजिक संदेश की शिक्षा देने के लिए नहीं आई हूं. हां, अगर कोई फिल्म मेरे मन की आती है जिसमें मनोरंजन और सामाजिक संदेश दोनों हैं, मैं वह फिल्म जरूर करना चाहूंगी."

रानी ने 2014 में आदित्य चोपड़ा से विवाह कर लिया था और 2015 में उन्होंने एक बेटी को जन्म दिया. उनकी बेटी का नाम आदिरा है. 'हिचकी' की सफलता के बाद आगे और फिल्में करने के सवाल पर रानी ने कहा, 'हां, आप मुझे जोशीले अंदाज में देखेंगे.'

खबर हटके | और पढ़ें


लखनऊ, उन्नाव रेप केस में सीबीआई को जांच करते करीब एक महीने से भी ज्यादा हो चुके हैं. सूत्रों के अनुसार सीबीआई के पास इस बात के 'ठोस सबूत' हैं,...

हम हर दिन होने वाली घटनाओं को अपने दिमाग की तह में बिठा लेते हैं, समय बितने के साथ कभी-कभी हम उनको याद भी करते हैं. लेकिन हमारे याददाश्त की भी एक सीमा है.

वक्त के साथ-साथ हम बहुत सी बातें भूल भी जाते हैं. इसे मेमोरी लॉस कहते हैं और...

अगर आप से कहा जाए कि आप आंखों पर पट्टी बांधकर किताब पढ़ें तो आप सोच में पड़ जाएंगे कि ऐसा कैसे मुमकिन है. बेशक ये दूसरों के लिए नामुमकिन सी चीज़ है पर अब्दुल बिलाल खान के लिए बाएं हाथ का खेल है. बिलाल आंखों पर पट्टी बांधकर ना...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 128851