बड़ी ख़बरें

लखनऊ विश्वविद्यालय मामला : राज्यपाल से मिला सपा नेताओं का प्रतिनिधिमंडल इस मामले में शाहरुख पर बिल्कुल भरोसा नहीं करतीं गौरी खान! तीसरे टी20 में रोहित शर्मा नहीं, 18 गेंदों ने किया इंग्लैंड का 'काम-तमाम'! थाईलैंडः बौद्ध भिक्षु रह चुका है गुफा में फंसा कोच, बच्चों को इतने दिन यूं रखा जिंदा ब्रिटेन में घर मेरे नाम पर नहीं, कोई इन्‍हें छू भी नहीं सकता: विजय माल्‍या कुख्यात डॉन मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में गोली मारकर हत्या, योगी ने दिए न्यायिक जांच के आदेश बुरहान की दूसरी बरसी पर हिज्बुल में शामिल हुआ IPS ऑफिसर का भाई, मेडिकल की कर रहा था पढ़ाई नाम में क्‍या रखा है? इन आशा वर्कर्स से पूछिए जो इसी नाम का कंडोम बांटती हैं तो ऐसे प्रेम प्रकाश सिंह बन गया माफिया डॉन 'मुन्ना बजरंगी', ये अब तक की 'पूरी कहानी' द. कोरियाई राष्ट्रपति के साथ आज नोएडा आ रहे पीएम मोदी, देंगे सबसे बड़ी मोबाइल फैक्ट्री की सौगात

रानी मुखर्जी: 'अगर कोई बंटी बबली 2' लेकर आएगा, तो मैं 100 परसेंट करुंगी'

नई दिल्ली: बॉलीवुड में अपने दो दशक लंबे सफर के दौरान अभिनेत्री रानी मुखर्जी ने अपने स्वभाव के अनुसार ही किरदारों का चयन किया है. वे कहती हैं कि वे अपनी फिल्मों से सिर्फ सामाजिक संदेश ही नहीं देना चाहतीं, बल्कि दर्शकों का मनोरंजन भी करना चाहती हूं. सालों तक रानी द्वारा 'गुलाम', 'बिच्छू' और 'बंटी और बबली' से 'नो वन किल्ड जेसिका', 'मर्दानी' और 'हिचकी' में चुने गए किरदारों में विरोधाभास देखा गया. मजबूत भूमिकाओं पर काम करने के प्रश्न पर उन्होंने न्‍यूज एजेंसी आईएएनएस को बताया, "जब फिल्म के चयन की बात आती है तो मैं बहुत स्वाभाविक हूं." उन्होंने कहा, "जिस फिल्म को सुनकर मुझे लगता है कि इसने मेरे दिल को छुआ है या इसकी कहानी बताने लायक है तो मैं उस फिल्म से जुड़ जाती हूं. इसलिए, अब अगर कोई 'बंटी और बबली 2' लेकर आए, मैं 100 फीसदी वह फिल्म करूंगी, जिसमें वे मुझे गाते और नृत्य करते हुए भी देख सकते हैं."

रानी (40) ने कहा कि कहानी से जुड़ना उनके लिए जरूरी है. उन्होंने कहा, "दिन खत्म होने पर इसका कोई अर्थ निकले और कुछ ऐसा हो जिसे करते हुए मुझे आनंद आए. यह पूरी तरह मनोरंजन पर आधारित भी हो सकती है, क्योंकि बतौर कलाकार, मुझे यह तथ्य कभी नहीं भूलना चाहिए कि मैं यहां लोगों का मनोरंजन करने आई हूं."

नई दिल्ली: बॉलीवुड में अपने दो दशक लंबे सफर के दौरान अभिनेत्री रानी मुखर्जी ने अपने स्वभाव के अनुसार ही किरदारों का चयन किया है. वे कहती हैं कि वे अपनी फिल्मों से सिर्फ सामाजिक संदेश ही नहीं देना चाहतीं, बल्कि दर्शकों का मनोरंजन भी करना चाहती हूं. सालों तक रानी द्वारा 'गुलाम', 'बिच्छू' और 'बंटी और बबली' से 'नो वन किल्ड जेसिका', 'मर्दानी' और 'हिचकी' में चुने गए किरदारों में विरोधाभास देखा गया. मजबूत भूमिकाओं पर काम करने के प्रश्न पर उन्होंने न्‍यूज एजेंसी आईएएनएस को बताया, "जब फिल्म के चयन की बात आती है तो मैं बहुत स्वाभाविक हूं." उन्होंने कहा, "जिस फिल्म को सुनकर मुझे लगता है कि इसने मेरे दिल को छुआ है या इसकी कहानी बताने लायक है तो मैं उस फिल्म से जुड़ जाती हूं. इसलिए, अब अगर कोई 'बंटी और बबली 2' लेकर आए, मैं 100 फीसदी वह फिल्म करूंगी, जिसमें वे मुझे गाते और नृत्य करते हुए भी देख सकते हैं."

रानी (40) ने कहा कि कहानी से जुड़ना उनके लिए जरूरी है. उन्होंने कहा, "दिन खत्म होने पर इसका कोई अर्थ निकले और कुछ ऐसा हो जिसे करते हुए मुझे आनंद आए. यह पूरी तरह मनोरंजन पर आधारित भी हो सकती है, क्योंकि बतौर कलाकार, मुझे यह तथ्य कभी नहीं भूलना चाहिए कि मैं यहां लोगों का मनोरंजन करने आई हूं."

हाल ही में रिलीज हुई फिल्‍म 'हिचकी' में रानी एक ऐसे टीचर के किरदार में नजर आईं, जो बार-बार हिचकी आने की बीमारी से परेशान थी. लेकिन वह इस परेशानी से आगे बढ़कर एक स्‍कूल में टीचर बनती हैं और स्‍टूडेंट्स की जिंदगी में परिवर्तन लाती हैं. रानी ने अपने इस इंटरव्‍यू में कहा, "मैं यहां लोगों को सिर्फ नई बातों या कोई सामाजिक संदेश की शिक्षा देने के लिए नहीं आई हूं. हां, अगर कोई फिल्म मेरे मन की आती है जिसमें मनोरंजन और सामाजिक संदेश दोनों हैं, मैं वह फिल्म जरूर करना चाहूंगी."

रानी ने 2014 में आदित्य चोपड़ा से विवाह कर लिया था और 2015 में उन्होंने एक बेटी को जन्म दिया. उनकी बेटी का नाम आदिरा है. 'हिचकी' की सफलता के बाद आगे और फिल्में करने के सवाल पर रानी ने कहा, 'हां, आप मुझे जोशीले अंदाज में देखेंगे.'

खबर हटके | और पढ़ें


लखीमपुर खीरी, आपने पुलिस का असलहा गुम होते सुना होगा. वर्दी चोरी होते हुए सुनी होगी. गहने पैसे चोरी करते सुना होगा, पर पुलिस की पगार गुम होने की खबर...

आगरा, उत्तर प्रदेश के आगरा में सड़क निर्माण में भयंकर लापरवाही का मामला सामने आया है. यहां कंस्ट्रक्शन कंपनी के कर्मचारियों ने एक सोते हुए कुत्ते के ऊपर ही सड़क बनवा दी. गर्म चारकोल और कंक्रीट की वजह से कुत्ते की मौके पर ही जान चली गई. पुलिस ने कंस्ट्रक्शन...

फैजाबाद, फैजाबाद जिला अस्पताल की एक तस्वीर हम आपको दिखाते हैं जिसको देखकर आपको लगेगा कि मानवों में भले ही मानवता कम होती जा रही है लेकिन मवेशियों में मानवता अभी भी बरकरार है. फैजाबाद जिला अस्पताल के जनरल वार्ड के सामने पड़े एक घायल पर आने जाने वाले लोगों...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 144446