बड़ी ख़बरें

अंतरिक्ष मिशन लेकर अर्थव्यवस्था तक, लाल किला से पीएम मोदी के भाषण की बड़ी 10 बातें स्वतंत्रता दिवस: 9 करोड़ पौधे लगाकर इतिहास रचने की तैयारी में उत्तर प्रदेश स्वतंत्रता दिवस पर योगी सरकार ने किया मुख्यमंत्री उत्कृष्ट सेवा पुलिस पदक का ऐलान आजादी का 72वां साल: क्यों शहीद घोषित नहीं हो सके भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु! पीएम मोदी ने लाल किले से दी खुशखबरी- 2022 तक अंतरिक्ष में होंगे भारतीय पूर्णिया देश की दूसरी ऐसी जगह, जहां आधी रात में फहराया जाता है तिरंगा यूपी के सबसे बड़े स्कूल CMS में रेप जैसी वरदात, छात्रों ने किया स्कूल के बाहर प्रदर्शन पंचतत्व में विलीन हुए महाकवि गोपालदास नीरज लखनऊ विश्वविद्यालय मामला : राज्यपाल से मिला सपा नेताओं का प्रतिनिधिमंडल इस मामले में शाहरुख पर बिल्कुल भरोसा नहीं करतीं गौरी खान!

'ज्वाइंट सेक्रेटरी' पर विवाद, विपक्ष बोला - अगली बार बिना चुनाव बनाओगे पीएम

नई दिल्ली, केंद्र की मोदी सरकार ने प्रशासनिक व्यवस्था में एंट्री को लेकर अब तक का सबसे बड़ा बदलाव किया है. अब बिना यूपीएससी की परीक्षा पास किए इस सेवा में आने का रास्ता साफ कर दिया है. अब लैटरल एंट्री के जरिए प्राइवेट कंपनियों में काम करने वाले सीनियर अधिकारी भी नौकशाही का हिस्सा बन सकते हैं. सरकार के इस फैसले पर विपक्ष की कड़ी प्रतिक्रिया आई है. विपक्ष आरोप लगा रहा है कि यह बीजेपी से जुड़े लोगों को प्रशासनिक सेवा में लाने के लिए सरकार की चाल है.

एक न्यूजपेपर में छपे विज्ञापन के अनुसार, मोदी सरकार को लैटरल एंट्री के तहत 10 ज्वाइंट सेक्रेटरी के पोस्ट के लिए 'टैलेंटेड और मोटिवेटेड' भारतीयों की तलाश है. DOPT की अधिसूचना के तहत राजस्व, वित्तीय सेवा, आर्थिक मामले, कृषि, किसान कल्याण, सड़क परिवहन और हाइवे, शिपिंग, पर्यावरण विभाग में ज्वॉइंट सेक्रेटरी के लिए आवेदन मांगे गए हैं.

कांग्रेस प्रवक्ता पीएल पुनिया जो कि खुद नौकरशाह रह चुके हैं, उन्होने कहा कि सरकार ने सत्ताधारी पार्टी के लोगों को भर्ती करने के लिए यह कदम उठाया है. यह पूरी तरह गलत है. सरकार प्राइवेट कंपनियों में काम करने वाले अपने करीबियों के अतिरिक्त आरएसएस, बीजेपी और उससे संबंधित संगठनों के लोगों को भर्ती करेगी.

पुनिया ने कहा, "ये लोग निष्पक्ष या तटस्थ नहीं रहेंगे और सरकार की योजनाओं को प्रभावित करने का प्रयास करेंगे. यह राष्ट्रीय हित में नहीं है." उन्होंने कहा कि संविधान के अनुसार, चुने गए प्रमुखों को देश का नागरिक होना चाहिए, जबकि विज्ञापन बताता है कि योग्य व्यक्तियों को भारतीय होना चाहिए.

पुनिया ने कहा इसे देखे जाने की जरूरत है.  क्या वे एनआरआई को सरकार में लाने की कोशिश कर रहे हैं ? क्योंकि अबतक उन्हें अनुमति नहीं है.

सरकार के कदम पर सीपीआई(एम) के महासचिव सीतारमा येचुरी ने कहा कि यह 'संघियों' को प्रशासनिक रैंक देने के लिए की गई कोशिश है. ट्विटर पर सीताराम येचुरी ने कहा, "समयबद्ध यूपीएससी और एसएससी को कमतर करने की कोशिश क्यों की जा रही है? बीजेपी के पिछले कुछ महीनों के कार्यकाल में संघियों को आईएएस रैंक देने और रिजर्वेशन को खत्म करने के प्रयास किए जा रहे हैं.

बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने सरकार के इस कदम को संविधान का उल्लंघन बताया है. तेजस्वी ने ट्वीट करके लिखा, "यह मनुवादी सरकार यूपीएसी को दरकिनार कर बिना परीक्षा के नीतिगत व संयुक्त सचिव के महत्वपूर्ण पदों पर मनपसंद व्यक्तियों को कैसे नियुक्त कर सकती है? यह संविधान और आरक्षण का घोर उल्लंघन है. कल को ये बिना चुनाव के प्रधानमंत्री और कैबिनेट बना लेंगे. इन्होंने संविधान का मजाक बना दिया है."

'कैबिनेट सचिव' के लिए प्राइवेट सेक्टर में काम करने वालों के लिए रिक्तियां निकाले जाने को लेकर जब प्रधानमंत्री ऑफिस में राज्यमंत्री जीतेन्द्र सिंह से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि यह सभी उपलब्ध स्रोतों से सर्वश्रेष्ठ निकालने का प्रयास है.

उन्होंने कहा, "प्रधानमंत्री मोदी ने तेजी से विकास के रास्ते पर भारत का नेतृत्व किया है. पिछले चार सालों में सरकार ने कई अहम फैसले लिए हैं. चाहे वो पुरानी ब्रिटिश परंपरा के तहत प्रमाण पत्रों को अनुप्रमाणित करने परंपरा बंद करना हो या फिर लोअर पोस्ट के लिए इंटरव्यू समाप्त करना."

सिंह ने कहा, "यह भारत के हर नागरिक पर एकसाथ ध्यान केंद्रित करने के साथ प्रत्येक नागरिक को उसकी काबिलियत और लगन के आधार पर विकास के लिए उचित मौका सुनिश्चित करने का प्रयास है.

सरकार में वरिष्ठ पदों पर होने वाली इस भर्ती को लैटरल एंट्री कहा जा रहा है.

'संयुक्त सचिव' मंत्रालय अथवा विभाग में सचिव/अतिरिक्त सचिव को रिपोर्ट करता है. सामन्यत: 'संयुक्त सचिव' की नियुक्ति ऑल इंडिया सर्विस जैसे आईएएस, आईपीएस, आईएफएस एवं अन्य सम्बद्ध सेवाओं के जरिए की जाती है.

गौरतलब है कि हाल ही में केंद्र सरकार ने प्रस्ताव दिया था कि सिविल सेवा परीक्षा में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों को फाउंडेशन कोर्स के नंबरों के आधार पर कैडर दिया जाए. केंद्र के इस प्रस्ताव का भी विपक्ष ने जोरदार विरोध किया था.

खबर हटके | और पढ़ें


लखीमपुर खीरी, आपने पुलिस का असलहा गुम होते सुना होगा. वर्दी चोरी होते हुए सुनी होगी. गहने पैसे चोरी करते सुना होगा, पर पुलिस की पगार गुम होने की खबर...

आगरा, उत्तर प्रदेश के आगरा में सड़क निर्माण में भयंकर लापरवाही का मामला सामने आया है. यहां कंस्ट्रक्शन कंपनी के कर्मचारियों ने एक सोते हुए कुत्ते के ऊपर ही सड़क बनवा दी. गर्म चारकोल और कंक्रीट की वजह से कुत्ते की मौके पर ही जान चली गई. पुलिस ने कंस्ट्रक्शन...

फैजाबाद, फैजाबाद जिला अस्पताल की एक तस्वीर हम आपको दिखाते हैं जिसको देखकर आपको लगेगा कि मानवों में भले ही मानवता कम होती जा रही है लेकिन मवेशियों में मानवता अभी भी बरकरार है. फैजाबाद जिला अस्पताल के जनरल वार्ड के सामने पड़े एक घायल पर आने जाने वाले लोगों...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 150991