बड़ी ख़बरें

यदि मेरी हत्या होती उसकी पूरी जिम्मेदारी एसपी हारदोई की होगी : बीजेपी विधायक कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण समारोह में बिछुड़ी बहनों की तरह मिलीं मायावती-सोनिया बीजेपी विधायकों से रंगदारी मांगने के मामले में एडीजी ने गठित की एसआईटी बुलंदशहर में कुत्तों का आतंक, 24 घंटे में 150 बने शिकार सपा का पलटवार : जिनके हाथ खुद दंगों में रमे है उनका बोलना हास्यापद यूपी : इस मदरसे में एक ही छत के नीचे होता है कुरान और गीता का पाठ पूर्व सीएम ही नहीं इस सियासी दिग्गजों का भी है सरकारी बंगले पर कब्जा मदरसा पाठ्यक्रम के आधुनिकीकरण का विरोध कट्टरपंथी सोच है : बीजेपी समाजवादी पार्टी देश की सबसे अमीर क्षेत्रीय पार्टी, 32 दलों को पछाड़ा मदरसों में होगी NCERT पाठ्यक्रम से पढ़ाई, अब हिंदी-अंग्रेजी की भी तालीम

कर्नाटक में कांग्रेस के इस उम्मीदवार ने क्राउड फंडिंग के सहारे लड़ा चुनाव

नई दिल्ली, किसी भी चुनाव में राजनीतिक पार्टियां पानी की तरह पैसा बहाती हैं. बड़ी-बड़ी रैलियों से लेकर रोड शो हर जगह पैसों की चमक नजर आती है, लेकिन क्या आपने कभी सुना है कि कोई नेता क्राउड फंडिंग के सहारे अपनी चुनावी नैया पार कराने की में जुटा हो. क्राउड फंडिंग यानी किसी उम्मीदवार को चुनाव लड़ाने के लिए लोगों की तरफ से पैसे इकठ्ठा करना.

मिलिए 33 साल के योगेश बाबू से जो मोलकालमुरु विधान सभा क्षेत्र से चुनाव लड़े. योगेश बाबू का मुकाबला यहां खनन माफिया जनार्दन रेड्डी के करीबी श्रीरामुलु से है.

चुनाव में पारदर्शिता लाने के लिए पहली बार ऐसा प्रयोग किया जा रहा है. योगेश बाबू कहते हैं, "चुनावों के दौरान पैसे की ताकत सबसे ज्यादा मायने रखती है, खास तौर से अगर आप जनार्दन रेड्डी के करीबी के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हो."

योगेश बाबू ने संस्कृत में पीएचडी की है. वो पहली बार चुनावी मैदान में उतरे हैं. लेकिन उन्होंने ज़मीनी स्तर पर काम किया है. इतना ही नहीं वो अपनी 'साफ छवि' के लिए भी जाने जाते हैं. योगेश बाबू अपने इलाके में खासे लोकप्रिय युवा हैं.

योगेश बाबू ने कहा, ''चुनाव प्रचार के लिए पिछले 2-3 दिन काफी अहम रहे हैं. मेरे विरोधी पैसों के बल पर मतदाताओं को अपनी ओर मोड़ रहे हैं. इसलिए इस मंच के माध्यम से मुझे जो पैसा मिलेगा, वो क्षेत्र के लोगों के लिए अच्छे कामों के लिए इस्तेमाल किया जाएगा."

पार्टी ने क्राउड फंडिंग के जरिए लिए 28 लाख रुपये का लक्ष्य रखा है. इतना ही पैसा चुनाव आयोग प्रचार के लिए खर्च करने की अमुमति देता है. खबर लिखे जाने तक योगेश बाबू को 184 लोगों से अब तक 4,19,340 रुपये मिले थे. जबकि प्रचार खत्म होने में अभी दो दिन का वक्त बाक़ी है. कर्नाटक में 12 मई को चुनाव होने हैं और नतीजे 15 मई को आएंगे.

खबर हटके | और पढ़ें


लखनऊ, उन्नाव रेप केस में सीबीआई को जांच करते करीब एक महीने से भी ज्यादा हो चुके हैं. सूत्रों के अनुसार सीबीआई के पास इस बात के 'ठोस सबूत' हैं,...

हम हर दिन होने वाली घटनाओं को अपने दिमाग की तह में बिठा लेते हैं, समय बितने के साथ कभी-कभी हम उनको याद भी करते हैं. लेकिन हमारे याददाश्त की भी एक सीमा है.

वक्त के साथ-साथ हम बहुत सी बातें भूल भी जाते हैं. इसे मेमोरी लॉस कहते हैं और...

अगर आप से कहा जाए कि आप आंखों पर पट्टी बांधकर किताब पढ़ें तो आप सोच में पड़ जाएंगे कि ऐसा कैसे मुमकिन है. बेशक ये दूसरों के लिए नामुमकिन सी चीज़ है पर अब्दुल बिलाल खान के लिए बाएं हाथ का खेल है. बिलाल आंखों पर पट्टी बांधकर ना...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 129723