बड़ी ख़बरें

बीजेपी हेडक्वार्टर लाया गया वाजपेयी का पार्थिव शरीर, शाम 4 बजे होगा अंतिम संस्कार अटल बिहारी वाजपेयी के सम्मान में सुप्रीम कोर्ट में आज 1 बजे तक ही होगा कामकाज 7 दशक तक लखनऊ की 'रगों' में 'बहते' रहे अटल, हर सड़क पर बिछी हैं यादें अटल जी के निधन के शोक में आज यूपी में सार्वजनिक अवकाश, बाजार भी रहेंगे बंद पाकिस्‍तान भी होगा अटल जी के अंतिम संस्‍कार में शामिल, यह नेता करेगा शिरकत भारत-पाक संबंधों के सुधार के लिए वाजपेयी जी के प्रयासों को हमेशा याद किया जाएगा : इमरान खान पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन, शोक में डूबा देश एम्स में पूर्व PM वाजपेयी को देखने पहुंचे वेंकैया नायडू-अमित शाह, हालत बेहद नाजुक अटल बिहारी वाजपेयी को देखने AIIMS पहुंच सकते हैं सीएम योगी आदित्यनाथ देवरिया शेल्‍टर होम: SP देवरिया के साथ हटाए गए CO सदर, विभागीय जांच के आदेश

तो ऐसे प्रेम प्रकाश सिंह बन गया माफिया डॉन 'मुन्ना बजरंगी', ये अब तक की 'पूरी कहानी'

लखनऊ, उत्तर प्रदेश मोस्ट वॉन्टेड माफिया डॉन मुन्ना बरजरंगी की सोमवार को यूपी के बागपत जेल में गोली मारकर हत्या कर दी गई. यूपी और बिहार से कई ऐसे बाहुबली निकले हैं जिनके नाम का सिक्का कई राज्यों में चला. लेकिन इसी बीच एक नाम था मुन्ना बजरंगी का जो बाहुबलियों की ताकत बनकर सामने आया. बता दें कि मुन्ना बरजरंगी पर 40 हत्याओं, लूट, रंगदारी की घटनाओं में शामिल होने का केस दर्ज है. मुन्ना बजरंगी पूरे यूपी की पुलिस और एसटीएफ के लिए सिरदर्द बना हुआ था. वह लखनऊ, कानपुर और मुंबई में क्राइम करता था. सरकारी ठेकेदारों से रंगदारी और हफ्ता वसूलना का भी आरोप था. बरहाल डाॅन की हत्या का आरोप बागपत जेल में बंद माफिया सुनील राठी पर लग रहा है. बताया जा रहा है कि सुनील राठी के शूटर्स ने मुन्ना बरजरंगी को गोली मारी है.

बड़ा आदमी बनाने का सपना

मुन्ना बजरंगी का असली नाम प्रेम प्रकाश सिंह है. उसका जन्म 1967 में उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले के पूरेदयाल गांव में हुआ था. उसके पिता पारसनाथ सिंह उसे पढ़ा लिखाकर बड़ा आदमी बनाने का सपना संजोए थे. मगर प्रेम प्रकाश उर्फ मुन्ना बजरंगी ने उनके अरमानों को कुचल दिया. उसने पांचवीं कक्षा के बाद पढ़ाई छोड़ दी. किशोर अवस्था तक आते आते उसे कई ऐसे शौक लग गए जो उसे जुर्म की दुनिया में ले जाने के लिए काफी थे.

हथियार रखने का बड़ा शौक
मुन्ना को हथियार रखने का बड़ा शौक था. वह फिल्मों की तरह एक बड़ा गैंगेस्टर बनना चाहता था. यही वजह थी कि 17 साल की नाबालिग उम्र में ही उसके खिलाफ पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया. जौनपुर के सुरेही थाना में उसके खिलाफ मारपीट और अवैध असलहा रखने का मामला दर्ज किया गया था. इसके बाद मुन्ना ने कभी पलटकर नहीं देखा. वह जरायम के दलदल में धंसता चला गया.

ठेकेदारी से बढ़े दुश्मन
पूर्वांचल में सरकारी ठेकों और वसूली के कारोबार पर मुख्तार अंसारी का कब्जा था. लेकिन इसी दौरान तेजी से उभरते बीजेपी के विधायक कृष्णानंद राय उनके लिए चुनौती बनने लगे. उन पर मुख्तार के दुश्मन ब्रिजेश सिंह का हाथ था. उसी के संरक्षण में कृष्णानंद राय का गैंग फल फूल रहा था. इसी वजह से दोनों गैंग अपनी ताकत बढ़ा रहे थे. इनके संबंध अंडरवर्ल्ड के साथ भी जुड़े गए थे. कृष्णानंद राय का बढ़ता प्रभाव मुख्तार को रास नहीं आ रहा था. उन्होंने कृष्णानंद राय को खत्म करने की जिम्मेदारी मुन्ना बजरंगी को सौंप दी.

बीजेपी विधायक की हत्या
मुख्तार से फरमान मिल जाने के बाद मुन्ना बजरंगी ने भाजपा विधायक कृष्णानंद राय को खत्म करने की साजिश रची. और उसी के चलते 29 नवंबर 2005 को माफिया डॉन मुख्तार अंसारी के कहने पर मुन्ना बजरंगी ने कृष्णानंद राय को दिन दहाड़े मौत की नींद सुला दिया. उसने अपने साथियों के साथ मिलकर लखनऊ हाइवे पर कृष्णानंद राय की दो गाड़ियों पर AK 47 से 400 गोलियां बरसाई थी. इस हमले में गाजीपुर से विधायक कृष्णानंद राय के अलावा उनके साथ चल रहे 6 अन्य लोग भी मारे गए थे.

मुंबई में गुजारा लंबा अरसा
यूपी पुलिस और एसटीएफ लगातार मुन्ना बजरंगी को तलाश कर रही थी. उसका यूपी और बिहार में रह पाना मुश्किल हो गया था. दिल्ली भी उसके लिए सुरक्षित नहीं था. इसलिए मुन्ना भागकर मुंबई चला गया. उसने एक लंबा अरसा वहीं गुजारा. इस दौरान उसका कई बार विदेश जाना भी होता रहा. उसके अंडरवर्ल्ड के लोगों से रिश्ते भी मजबूत होते जा रहे थे.

राजनीति में आजमाई किस्मत
एक बार मुन्ना ने लोकसभा चुनाव में गाजीपुर लोकसभा सीट पर अपना एक डमी उम्मीदवार खड़ा करने की कोशिश की थी. मुन्ना बजरंगी एक महिला को गाजीपुर से भाजपा का टिकट दिलवाने की कोशिश कर रहा था. जिसके चलते उसके मुख्तार अंसारी के साथ संबंध भी खराब हो रहे थे.

ऐसे चढ़ा पुलिस के हत्थे

उत्तर प्रदेश समते कई राज्यों में मुन्ना बजरंगी के खिलाफ मुकदमे दर्ज थे. वह पुलिस के लिए परेशानी का सबब बन चुका था. उसके खिलाफ सबसे ज्यादा मामले उत्तर प्रदेश में दर्ज हैं. लेकिन 29 अक्टूबर 2009 को दिल्ली पुलिस ने मुन्ना को मुंबई के मलाड इलाके में नाटकीय ढंग से गिरफ्तार कर लिया था. माना जाता है कि मुन्ना को अपने एनकाउंटर का डर सता रहा था.
 

खबर हटके | और पढ़ें


लखीमपुर खीरी, आपने पुलिस का असलहा गुम होते सुना होगा. वर्दी चोरी होते हुए सुनी होगी. गहने पैसे चोरी करते सुना होगा, पर पुलिस की पगार गुम होने की खबर...

आगरा, उत्तर प्रदेश के आगरा में सड़क निर्माण में भयंकर लापरवाही का मामला सामने आया है. यहां कंस्ट्रक्शन कंपनी के कर्मचारियों ने एक सोते हुए कुत्ते के ऊपर ही सड़क बनवा दी. गर्म चारकोल और कंक्रीट की वजह से कुत्ते की मौके पर ही जान चली गई. पुलिस ने कंस्ट्रक्शन...

फैजाबाद, फैजाबाद जिला अस्पताल की एक तस्वीर हम आपको दिखाते हैं जिसको देखकर आपको लगेगा कि मानवों में भले ही मानवता कम होती जा रही है लेकिन मवेशियों में मानवता अभी भी बरकरार है. फैजाबाद जिला अस्पताल के जनरल वार्ड के सामने पड़े एक घायल पर आने जाने वाले लोगों...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 30538