बड़ी ख़बरें

तत्काल और कैंसिल टिकट के लिए रेलवे की नई शुरुआत, अब नहीं होगा आपको नुकसान भारत दुनिया का छठा सबसे अमीर देश, कुल संपत्ति 8,230 अरब डॉलर : रिपोर्ट राहुल गांधी के ‘प्लान बी’ ने पलट दी कर्नाटक की सियासी बाजी डीके शिवकुमार : वो कांग्रेस नेता, जिसकी वजह से कर्नाटक के CM बनेंगे कुमारस्वामी येदियुरप्पा के साथ ऐसा क्यों होता है? कर्नाटक जैसे 'सियासी संकट' में टूटने से कैसे बचाए जाते हैं विधायक? 55 घंटे में ही गिर गयी कर्नाटक में बीजेपी की सरकार, येदियुरप्पा ने दिया मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा कर्नाटक में आज बीजेपी की अग्निपरीक्षा, जानिए कैसे होगा फ्लोर टेस्ट इलाहाबाद: अखाड़ा परिषद नहीं करेगा कुंभ में शाही स्नान का बहिष्कार काशी में अब श्रद्धालु 'क्रूज' पर बैठकर देख सकेंगे विश्व-प्रसिद्ध गंगा आरती

लखनऊ जीआरपी का सराहनीय कार्य – यात्रियों को बुलाकर वापस कराये उनके बदले हुए बैग, सभी को मिले उनके कीमती सामान और पैसे

लखनऊ, यात्री गुलाब सिंह यादव पुत्र श्रीपाल नि0 जसराजपुर थाना खागा जनपद फतेहपुर का यात्रा के दौरान बेग बदल गया था। यात्री के बैग में नकद लगभग दो लाख रुपये, पेन्ट-शर्ट का दो जोड़ी कपड़ा, इलेक्ट्रॉनिक ट्रेवल चार्जर एवं बेग में रखा एक लेडीज पर्स जिसमे 4650 रूपये नकद 10 फोटो, दवाइयां, आर्टिफिसियल ज्वैलरी एवं अन्य सामान था। दूसरा यात्री सनाउल्ला खान पुत्र मो0 बसीर खान नि0 ग्राम हयात नगर थाना गोसाईगंज, सुल्तानपुर जिनके बेग में 2000 रूपये नकद, पैनकार्ड, चेकबुक, आधार कार्ड , कपड़े एवं अन्य सामान कीमती लगभग 8000 रूपये का था। 

दोनों यात्रियों का सामान दिनांक 11-05-18 को पुष्पक एक्स0 में यात्रा के दौरान कानपुर में बदल गया था। यात्री गुलाब सिंह अपनी लड़की की सगाई के सिलसिले में मुम्बई से आये थे तथा कानपुर में उतर गए थे। आज दिनांक 12-05-18 को दोनों यात्रियों को बुलाकर पूछतांछ कर बेग रूपये,  कपड़े आदि सामान सुपुर्द किया  था। जीआरपी के इस कार्य की इनके व उपस्थित यात्रियो द्वारा कोटि कोटि किया

खबर हटके | और पढ़ें


लखनऊ, उन्नाव रेप केस में सीबीआई को जांच करते करीब एक महीने से भी ज्यादा हो चुके हैं. सूत्रों के अनुसार सीबीआई के पास इस बात के 'ठोस सबूत' हैं,...

हम हर दिन होने वाली घटनाओं को अपने दिमाग की तह में बिठा लेते हैं, समय बितने के साथ कभी-कभी हम उनको याद भी करते हैं. लेकिन हमारे याददाश्त की भी एक सीमा है.

वक्त के साथ-साथ हम बहुत सी बातें भूल भी जाते हैं. इसे मेमोरी लॉस कहते हैं और...

अगर आप से कहा जाए कि आप आंखों पर पट्टी बांधकर किताब पढ़ें तो आप सोच में पड़ जाएंगे कि ऐसा कैसे मुमकिन है. बेशक ये दूसरों के लिए नामुमकिन सी चीज़ है पर अब्दुल बिलाल खान के लिए बाएं हाथ का खेल है. बिलाल आंखों पर पट्टी बांधकर ना...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 128824