बड़ी ख़बरें

पंचतत्व में विलीन हुए महाकवि गोपालदास नीरज लखनऊ विश्वविद्यालय मामला : राज्यपाल से मिला सपा नेताओं का प्रतिनिधिमंडल इस मामले में शाहरुख पर बिल्कुल भरोसा नहीं करतीं गौरी खान! तीसरे टी20 में रोहित शर्मा नहीं, 18 गेंदों ने किया इंग्लैंड का 'काम-तमाम'! थाईलैंडः बौद्ध भिक्षु रह चुका है गुफा में फंसा कोच, बच्चों को इतने दिन यूं रखा जिंदा ब्रिटेन में घर मेरे नाम पर नहीं, कोई इन्‍हें छू भी नहीं सकता: विजय माल्‍या कुख्यात डॉन मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में गोली मारकर हत्या, योगी ने दिए न्यायिक जांच के आदेश बुरहान की दूसरी बरसी पर हिज्बुल में शामिल हुआ IPS ऑफिसर का भाई, मेडिकल की कर रहा था पढ़ाई नाम में क्‍या रखा है? इन आशा वर्कर्स से पूछिए जो इसी नाम का कंडोम बांटती हैं तो ऐसे प्रेम प्रकाश सिंह बन गया माफिया डॉन 'मुन्ना बजरंगी', ये अब तक की 'पूरी कहानी'

इंफोसिस के खिलाफ चल रही है कोई जांच? गुमनाम व्हिसलब्लोअर का US अधिकारियों से सवाल

नई दिल्ली, एक अज्ञात व्हिसलब्लोअर ने इंफोसिस से यूएस सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज कमीशन (US SEC) में Form 20F दाखिल करने में बेजा देरी पर सवाल उठाया है. व्हिसलब्लोअर ने यह स्पष्ट करने के लिए कहा कि क्या कंपनी के खिलाफ कोई जांच चल रही है.

व्हिसलब्लोअर ने पत्र में लिखा है, 'कंपनी की ओर से Form 20F फाइल करने में हो रही देरी से कई सवाल उठ रहे हैं और शेयर होल्डर्स के लिए भी रिस्क पैदा हो रहा है.' व्हिसलब्लोअर ने लिखा है, 'मैं आपसे आग्रह करता हूं कि कंपनी की ओर से शेयरहोल्डर्स को इसकी वाजिब वजह बताई जाए, इसके साथ ही यह भी पुष्टि करें कि क्या SEC के साथ कोई जांच लंबित है.'

SEC को को पत्र रविवार को लिखा गया. नियमों के अनुसार एक कंपनी को Form 20F को US SEC में वित्तीय वर्ष खत्म होने के 4 महीने के भीतर जमा कर देना चाहिए. Infosys, अप्रैल से मार्च के वित्तीय वर्ष पर काम करती है, उसे जुलाई के आखिरी तक SEC के साथ जरूरी जानकारी साझा करना है.

पत्र में कहा गया है कि कंपनी आम तौर पर जो Form 20F फाइल करती है, उसमें मई और जून में जनरल मीटिंग के पहले शेयरहोल्डर के लिए उपयुक्त जानकारी होती है. पत्र में कहा गया है कि आश्चर्यजनक रूप से, इस साल, फॉर्म 20 एफ दायर नहीं किया गया है और एजीएम पहले ही हो चुका है. एजीएम 23 जून को बेंगलुरू में हुआ था.पत्र में कहा गया है कि, अमेरिकी डिपोजिटरी रिसिप्ट्स (एडीआर) शेयरधारकों से वित्तीय विवरणों की पूरी जानकारी के बिना वोटिंग कराई गई. Form 20F में आंतरिक नियंत्रण, रिस्क इत्यादि की जानकारी होती है जो ADR शेयरहोल्डर्स के लिए फाइनैन्शल अप्रूव करने के लिए उपयुक्त होता है.


व्हिसलब्लोअर ने यह भी जानना चाहा कि क्या SEC की तरफ कोई जांच चल रही है, क्योंकि एक कंपनी तभी आमतौर पर ऐसी स्थितियों में अपनी वार्षिक फाइलिंग में देरी करती है. पत्र में यह भी पूछा गया है कि क्या बोर्ड से चेयरमैन रवि वेंकटेशन के इस्तीफे और Form 20F के फाइलिंग में को संबंध है?

पत्र में व्हिसलब्लोअर ने लिखा है, 'आम तौर पर एक कंपनी SEC में अपनी सालाना फाइलिंग में देरी तब करती है, जब उसके खिलाफ जांच चल रही होती है. इसके अलावा, हाल ही में पूर्व सह-अध्यक्ष रवि वेंकटेशन ने बिना किसी कारण बताए बोर्ड से इस्तीफा दे दिया था. शेयरधारकों को यह पता होना है कि इन दो घटनाओं के बीच कोई संबंध है या नहीं.'

पत्र में कहा गया है कि, कंपनी को इस मोर्चे पर स्पष्टीकरण देना चाहिए, क्योंकि वेंकटेशन पनाया के अधिग्रहण को मंजूरी देने में शामिल थे, जो बोर्ड प्रबंधन और संस्थापक एनआर नारायण मूर्ति के बीच विवाद की जड़ थी.

इस बीच, इंफोसिस के प्रवक्ता ने कहा कि कंपनी इस मुद्दे पर टिप्पणी नहीं करना चाहेगी.

खबर हटके | और पढ़ें


लखीमपुर खीरी, आपने पुलिस का असलहा गुम होते सुना होगा. वर्दी चोरी होते हुए सुनी होगी. गहने पैसे चोरी करते सुना होगा, पर पुलिस की पगार गुम होने की खबर...

आगरा, उत्तर प्रदेश के आगरा में सड़क निर्माण में भयंकर लापरवाही का मामला सामने आया है. यहां कंस्ट्रक्शन कंपनी के कर्मचारियों ने एक सोते हुए कुत्ते के ऊपर ही सड़क बनवा दी. गर्म चारकोल और कंक्रीट की वजह से कुत्ते की मौके पर ही जान चली गई. पुलिस ने कंस्ट्रक्शन...

फैजाबाद, फैजाबाद जिला अस्पताल की एक तस्वीर हम आपको दिखाते हैं जिसको देखकर आपको लगेगा कि मानवों में भले ही मानवता कम होती जा रही है लेकिन मवेशियों में मानवता अभी भी बरकरार है. फैजाबाद जिला अस्पताल के जनरल वार्ड के सामने पड़े एक घायल पर आने जाने वाले लोगों...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 145062