बड़ी ख़बरें

राज्यसभा उप-सभापति पद के लिए कांग्रेस नेता ने की ममता बनर्जी से मुलाकात मायावती विपक्षी एकजुटता से अलग क्‍या अकेले चुनाव लड़ने का मन बना रही हैं? तालिबान ने संघर्षविराम आगे बढ़ाने से इंकार किया, आत्मघाती हमले में 18 की मौत तबाही मचाने के लिए सऊदी अरब ने दागी मिसाइल, दुश्मन देश ने रास्ते में किया नेस्तनाबूद फिल्म 'रेस 3' पर बना एक और VIDEO, हंस-हंसकर हो जाएंगे लोटपोट हनी सिंह के गाने पर इस छोटी सी बच्ची का डांस हो रहा वायरल, क्या आपने देखा VIDEO? 'विरुष्का' पर भड़कीं अरहान सिंह की मां, कहा- पब्लिसिटी के लिए किया स्टंट श्रीलंकाई कप्तान चांडीमल पर गेंद से छेड़छाड़ का आरोप, ICC ने पाया दोषी आज से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर ट्रांसपोर्टर्स, देशभर के कारोबार पर पड़ सकता है असर फिर बढ़ेंगी विजय माल्या की मुश्किलें, एक और चार्जशीट दायर करने की तैयारी में ED

सरकारी बैंकों को 2017-18 में 85,370 करोड़ रुपये का घाटा, केवल ये दो बैंक रहे मुनाफे में

नई दिल्ली: सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को 2017-18 में कुल मिलाकर 85,370 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ. सबसे ज्यादा घाटा घोटाले की मार झेल रहे पंजाब नेशनल बैंक (करीब 12,283 करोड़ रुपये) को हुआ. घाटे के मामले में आईडीबीआई बैंक दूसरे नंबर पर रहा. बैंकों द्वारा जारी तिमाही आंकड़ों के मुताबिक, वित्त वर्ष के दौरान 21 में से 19 बैंक घाटे में रहे. इंडियन बैंक और विजया बैंक को छोड़कर 19 सरकारी बैंकों का कुल शुद्ध घाटा 87,357 करोड़ रुपये रहा. 

इंडियन बैंक और विजया बैंक ने 2017-18 में कुल मिलाकर 1986.01 करोड़ रुपए का मुनाफा दर्ज किया. इसमें इंडियन बैंक को 1,258.99 करोड़ रुपये और विजया बैंक को 727.02 करोड़ रुपये का लाभ हुआ. इंडियन बैंक का यह अब तक का सबसे अधिक मुनाफा है. इस प्रकार सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को पिछले वित्त वर्ष में कुल मिला कर 85,370 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ. 2016-17 के दौरान इन 21 बैंकों को कुल 473.72 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ था. 

14,000 करोड़ रुपये के घोटाले का दंश झेल रहे पंजाब नेशनल बैंक को पिछले वित्त वर्ष में 12,282.82 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ जबकि इससे पिछले वित्त वर्ष में उसने 1,324.8 करोड़ रुपये का मुनाफा कमाया था. पीएनबी के बाद सबसे ज्यादा घाटा आईडीबीआई बैंक को हुआ. उसका घाटा 2016-17 के 5,158.14 करोड़ रुपये से बढ़कर 2017-18 में 8,237.93 रुपये हो गया. 

देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक का शुद्ध घाटा 2017-18 में 6,547.45 करोड़ रुपये रहा , जबकि 2016-17 में उसे 10,484.1 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ था. वहीं , देश का बैंकिंग क्षेत्र एनपीए और घोटाले एवं धोखाधड़़ी से जूझ रहा है. दिसंबर 2017 तक बैंकिंग क्षेत्र का एनपीए 8.31 लाख करोड़ रुपये रह गया. बढ़ते डूबे कर्ज के कारण बैंकों की वित्तीय स्थिति खस्ताहाल है और इसके चलते 21 सार्वजनिक बैंकों में से 11 को रिजर्व बैंक ने त्वरित सुधार कार्रवाई (पीएसए) प्रणाली के अंतर्गत रखा है. 

वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने एनपीए के निपटारे के लिए एक राष्ट्रीय परिसंपत्ति पुनर्गठन कंपनी के गठन के बारे में सुझाव देने के लिए विशेषज्ञों की समिति का गठन किया गया है. समिति 15 दिनों के भीतर अपने सुझाव देगी. 

खबर हटके | और पढ़ें


आगरा, उत्तर प्रदेश के आगरा में सड़क निर्माण में भयंकर लापरवाही का मामला सामने आया है. यहां कंस्ट्रक्शन कंपनी के कर्मचारियों ने एक सोते हुए कुत्ते के ऊपर ही सड़क...

फैजाबाद, फैजाबाद जिला अस्पताल की एक तस्वीर हम आपको दिखाते हैं जिसको देखकर आपको लगेगा कि मानवों में भले ही मानवता कम होती जा रही है लेकिन मवेशियों में मानवता अभी भी बरकरार है. फैजाबाद जिला अस्पताल के जनरल वार्ड के सामने पड़े एक घायल पर आने जाने वाले लोगों...

जौनपुर, आपने खाने के शौक़ीन तो बहुत देखे होंगे, लेकिन हम आपको एक ऐसे अजीब इंसान के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसकी पसंद सुनकर आप हैरान रह जाएंगे. जी हां, जौनपुर का एक शख्स पिछले पंद्रह सालों से प्रतिदिन मिट्टी के साथ चूना खाता चला आ रहा है....

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 135764