बड़ी ख़बरें

अंतरिक्ष मिशन लेकर अर्थव्यवस्था तक, लाल किला से पीएम मोदी के भाषण की बड़ी 10 बातें स्वतंत्रता दिवस: 9 करोड़ पौधे लगाकर इतिहास रचने की तैयारी में उत्तर प्रदेश स्वतंत्रता दिवस पर योगी सरकार ने किया मुख्यमंत्री उत्कृष्ट सेवा पुलिस पदक का ऐलान आजादी का 72वां साल: क्यों शहीद घोषित नहीं हो सके भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु! पीएम मोदी ने लाल किले से दी खुशखबरी- 2022 तक अंतरिक्ष में होंगे भारतीय पूर्णिया देश की दूसरी ऐसी जगह, जहां आधी रात में फहराया जाता है तिरंगा यूपी के सबसे बड़े स्कूल CMS में रेप जैसी वरदात, छात्रों ने किया स्कूल के बाहर प्रदर्शन पंचतत्व में विलीन हुए महाकवि गोपालदास नीरज लखनऊ विश्वविद्यालय मामला : राज्यपाल से मिला सपा नेताओं का प्रतिनिधिमंडल इस मामले में शाहरुख पर बिल्कुल भरोसा नहीं करतीं गौरी खान!

रेल मंत्री पीयूष गोयल बोले - जुर्माना वसूलना प्राथमिकता नहीं, यात्रियों को सुविधाएं देना महत्वपूर्ण

नई दिल्ली: तय वजन से ज्यादा सामान लेकर जाने वाले यात्रियों पर जुर्माने और सामान बुकिंग से रेलवे को भले ही वित्त वर्ष 2017-18 में 189 करोड़ रुपये की कमाई हुई हो , लेकिन रेल मंत्री पीयूष गोयल का कहना है कि उनकी प्राथमिकता लोगों को जागरूक करना है , जुर्माना लगाकर राजस्व कमाना नहीं. 

हवाई यात्रा की भांति ट्रेन यात्रा में भी प्रति यात्री सामान का वजन तय होने का नियम उस वक्त चर्चा में आया जब रेलवे ने देश भर में तय वजन से बहुत ज्यादा सामान लेकर गाड़ी में चढ़ने वालों के खिलाफ जुर्माना और जागरूकता अभियान चलाया.  इसे लेकर आलोचनाओं का सामना कर रहे रेल मंत्रालय ने बाद में स्पष्ट किया कि उनके अभियान का लक्ष्य लोगों को इस नियम के प्रति जागरूक करना है , उनसे जुर्माना वसूलना नहीं. 

रेल मंत्री गोयल ने कहा , ‘मैंने यह कभी नहीं कहा कि इस नियम (सामान वजन संबंधी नियम) को लागू नहीं करना चाहते. हमारा विचार कभी यात्रियों को परेशान करना नहीं था. जब किसी परिवार के पास बहुत ज्यादा सामान होता है , सह - यात्रियों को परेशानी होती है , इससे रेलवे को फर्क नहीं पड़ता. किसी भी स्थिति में ट्रेन में सामान बुक करने और उसे अपने साथ गंतव्य तक लेकर जाने की सुविधा है. ’ यह रेखांकित करते हुए कि सामान ब्रेक (सामान डिब्बे) की सुविधा सभी यात्रियों के लिए है , उन्होंने लोगों से सह - यात्रियों की सुविधा का ख्याल रखने का अनुरोध किया. 

मंत्री ने कहा, ‘हम सिर्फ ज्यादा से ज्यादा जागरूकता फैलाना चाहते हैं. एक बार सभी जागरूक हो जाएं , फिर भारत के लोग काफी जिम्मेदार हैं और वह पक्का ही अपना सामान ‘ सामान ब्रेक ’ में बुक करवाएंगे. हमारा काम और जागरूकता लाना है. जुर्माना या जुर्माना वसूलना हमारी प्राथमिकता नहीं है , हमारी प्राथमिकता ग्राहकों की संतुष्टि है.’ 

हालांकि , सरकारी आंकड़ों के अनुसार , वित्त वर्ष 2017-18 में रेलवे को ज्यादा सामान लेकर जाने वाले यात्रियों से जुर्माने के रूप में 56 करोड़ रुपये और सामान ब्रेक में बुकिंग से 133 करोड़ रुपये की कमायी हुई है. 

खबर हटके | और पढ़ें


लखीमपुर खीरी, आपने पुलिस का असलहा गुम होते सुना होगा. वर्दी चोरी होते हुए सुनी होगी. गहने पैसे चोरी करते सुना होगा, पर पुलिस की पगार गुम होने की खबर...

आगरा, उत्तर प्रदेश के आगरा में सड़क निर्माण में भयंकर लापरवाही का मामला सामने आया है. यहां कंस्ट्रक्शन कंपनी के कर्मचारियों ने एक सोते हुए कुत्ते के ऊपर ही सड़क बनवा दी. गर्म चारकोल और कंक्रीट की वजह से कुत्ते की मौके पर ही जान चली गई. पुलिस ने कंस्ट्रक्शन...

फैजाबाद, फैजाबाद जिला अस्पताल की एक तस्वीर हम आपको दिखाते हैं जिसको देखकर आपको लगेगा कि मानवों में भले ही मानवता कम होती जा रही है लेकिन मवेशियों में मानवता अभी भी बरकरार है. फैजाबाद जिला अस्पताल के जनरल वार्ड के सामने पड़े एक घायल पर आने जाने वाले लोगों...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 150998