बड़ी ख़बरें

बीजेपी हेडक्वार्टर लाया गया वाजपेयी का पार्थिव शरीर, शाम 4 बजे होगा अंतिम संस्कार अटल बिहारी वाजपेयी के सम्मान में सुप्रीम कोर्ट में आज 1 बजे तक ही होगा कामकाज 7 दशक तक लखनऊ की 'रगों' में 'बहते' रहे अटल, हर सड़क पर बिछी हैं यादें अटल जी के निधन के शोक में आज यूपी में सार्वजनिक अवकाश, बाजार भी रहेंगे बंद पाकिस्‍तान भी होगा अटल जी के अंतिम संस्‍कार में शामिल, यह नेता करेगा शिरकत भारत-पाक संबंधों के सुधार के लिए वाजपेयी जी के प्रयासों को हमेशा याद किया जाएगा : इमरान खान पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन, शोक में डूबा देश एम्स में पूर्व PM वाजपेयी को देखने पहुंचे वेंकैया नायडू-अमित शाह, हालत बेहद नाजुक अटल बिहारी वाजपेयी को देखने AIIMS पहुंच सकते हैं सीएम योगी आदित्यनाथ देवरिया शेल्‍टर होम: SP देवरिया के साथ हटाए गए CO सदर, विभागीय जांच के आदेश

आगरा, पद्मभूषण महाकवि और गीतकार डॉ. गोपालदास नीरज शनिवार को पंचतत्व में विलीन हो गए। उनके लिखे कालजयी गीतों की धुनों के साथ शहर में अंतिम यात्रा निकाली गई। कृष्णांजलि नाट्यशाला में शहर के लोगों ने महाकवि को नम आंखों से विदाई दी। शाम को मोक्षधाम में राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया। नीरज के चार पुत्रों और पौत्र ने संयुक्त रूप से मुखाग्नि दी। दुग्ध मंत्री चौधरी लक्ष्मीनारायण ने प्रदेश सरकार के नुमाइंदे के रूप में श्रद्धासुमन अर्पित किए।

शनिवार को दोपहर एक बजे महाकवि का पार्थिव शरीर दिल्ली से आगरा होते हुए अलीगढ़ के जनकपुरी स्थित उनके आवास पर पहुंचा। सुबह से बेताब करीबियों व प्रशंसकों का जमावड़ा अंतिम दर्शन को उमड़ पड़ा। यहां स्नान आदि के बाद कुछ देर के लिए पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए रखा गया। एडीएम सिटी व एसपी सिटी की मौजूदगी में पार्थिक शरीर को राष्ट्रीय ध्वज में लपेटा गया। इसके बाद नीरज के ही लिखे गीतों की धुन के बीच जनकपुरी ने भीगी पलकों से काव्य के सितारे को अंतिम विदाई दी।

जनकपुरी से शुरू हुई अंतिम यात्रा सेंटर प्वाइंट, रेलवे रोड, डीएम आवास, तस्वीर महल, जेल रोड रेल ओवरब्रिज, जीटी रोड होते हुए कृष्णांजलि नाट्यशाल पहुंची। जहां अलीगढ़ियों ने उन्हें नम आंखों से विदाई दी। यहां से उनके पार्थिव शरीर को नुमाइश मैदान के मोक्षधाम ले जाया गया। यहां अंतिम क्रियाएं पूर्ण करने के बाद महाकवि के चार बेटों शशांक प्रभाकर, अरस्तु प्रभाकर, नीरज गुंजन और मृणाल प्रभाकर तथा पौत्र पल्लव ने संयुक्त रूप से मुखाग्नि दी।

इस दौरान साहित्य जगत से कवि डॉ. सुनील जोगी, डॉ. कुंवर बेचैन, डॉ. विष्णु सक्सेना, सर्वेश अस्थाना के अलावा सूबे की सरकार के कैबिनेट मंत्री चौधरी लक्ष्मीनारायण सिंह, सांसद सतीश गौतम, महापौर मो. फुरकान, शहर विधायक संजीव राजा, कोल विधायक अनिल पाराशर, खैर विधायक अनूप वाल्मीकि, पूर्व सांसद बिजेंद्र सिंह आदि जनप्रतिनिधि, कमिश्नर अजयदीप सिंह, डीआईजी डॉ. प्रीतिंदर सिंह, डीएम चंद्रभूषण सिंह, एसएसपी अजय साहनी सहित पूरा अमला मौजूद रहा।

खबर हटके | और पढ़ें


त्य्र

...

फ्द्ग्फ्ग्द

...

ग्ज्ग्फ्ज

...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 33836