बड़ी ख़बरें

आपातकाल विशेष : ...जब प्रधानमंत्री इंदिरा को लगने लगा था 'डर', और मंत्रियों को सताने लगा था गिरफ्तारी का 'खौफ' योगी सरकार पर हमलों में 'लिपटीं' ओम प्रकाश राजभर की चुनावी तैयारियां मुजफ्फरनगर: कबाड़ की दुकान में भीषण विस्फोट, 4 की मौत CM योगी का अयोध्या दौरा, कार्यक्रम स्थल पर लगी 'केसरिया' कुर्सियां पाकिस्तान के नंबरों से आ रहे PORN मैसेज, महिला पहुंची SSP के पास लोकसभा चुनाव से पहले सरकार करती है ज्यादा खर्च, जानें क्या कहते हैं आंकड़े देवगौड़ा की कुमारस्वामी को सलाह, 'कावेरी मुद्दे पर न करें सुप्रीम कोर्ट या केंद्र का विरोध' पासपोर्ट विवादः सुषमा स्वराज ने लाइक किए आलोचकों के ट्वीट, कहा- 'ऐसा सम्मान मिला' AMU और जामिया में दलितों को आरक्षण की वकालत नहीं करता विपक्ष: सीएम योगी मेरठ में सिरफिरे ने की ताबड़तोड़ फायरिंग

लखनऊ, उत्तर प्रदेश की पुलिस सिस्टम में ऐतिहासिक बदलाव करते हुए डीजीपी ओपी सिंह ने गुरुवार को सभी जिलों के कप्तानों से एक थानों में चार इंस्पेक्टर की तैनाती के आदेश जारी कर दिए. नई व्यवस्था के तहत थाने में एक मुख्य इंस्पेक्टर के अलावा, इंस्पेक्टर क्राईम, इंस्पेक्टर लॉ एंड ऑर्डर और इंस्पेक्टर एडमिन की तैनाती होगी.

डीजीपी ने अपने आदेश में कहा है कि पुलिस थानों में बढ़ रही चुनौतियों और उच्चतम न्यायालय द्वारा कानून व्यवस्था और अपराध को अलग-अलग करने के सुझाव को देखते हुए नई व्यवस्था लागू की जा रही है.
इस व्यवस्था के तहत क्षेत्राधिकारी मुख्यालय के थानों पर चार इंस्पेक्टर तैनात किए जाएंगे. इस प्रकार क्षेत्राधिकारी मुख्यालय के थानों पर 1+3 निरीक्षक रैंक के अधिकारी नियुक्त किए जाएंगे. वैसे इन नियुक्तियों में एसएसपी या एसपी यह सुनिश्चित करेंगे की प्रभारी निरीक्षक वरिष्ठतम होना चाहिए.

दरअसल पिछले दिनों प्रमोशन के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस ने इंस्पेक्टर की संख्या में काफी इजाफा हो गया है. पिछले दिनों 2227 दरोगाओं के इंस्पेक्टर के पद पर प्रमोशन हुआ है, जिसके कारण प्रदेश के थानों में इंस्पेक्टरों की संख्या यूपी पुलिस के आला अफसरों के लिए समस्या बन गई थी. इसी से निपटने के लिए अब थानों में अपराध और कानून व्यवस्था को अलग-अलग ढंग से देखने की योजना बनाई गई है. योजना है कि हर थाने में चार इंस्पेक्टर होंगे, जो क्राइम और कानून व्यवस्था को अलग-अलग देखेंगे.

जानकारी के अनुसार इस समय लखनऊ में ही 43 थाने हैं, जिनमें 167 इंस्पेक्टर तैनात हैं. सरकार का मानना है कि इस व्यवस्था से प्रदेश में अपराध की जांच और कानून व्यवस्था के मामलों से निपटने में आसानी मिलेगी. अभी तक एक ही इंस्पेक्टर के हवाले अपराध और कानून व्यवस्था दुरुस्त रखने की जिम्मेदारी होती थी.

खबर हटके | और पढ़ें


त्य्र

...

फ्द्ग्फ्ग्द

...

ग्ज्ग्फ्ज

...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 139607