बड़ी ख़बरें

बीजेपी हेडक्वार्टर लाया गया वाजपेयी का पार्थिव शरीर, शाम 4 बजे होगा अंतिम संस्कार अटल बिहारी वाजपेयी के सम्मान में सुप्रीम कोर्ट में आज 1 बजे तक ही होगा कामकाज 7 दशक तक लखनऊ की 'रगों' में 'बहते' रहे अटल, हर सड़क पर बिछी हैं यादें अटल जी के निधन के शोक में आज यूपी में सार्वजनिक अवकाश, बाजार भी रहेंगे बंद पाकिस्‍तान भी होगा अटल जी के अंतिम संस्‍कार में शामिल, यह नेता करेगा शिरकत भारत-पाक संबंधों के सुधार के लिए वाजपेयी जी के प्रयासों को हमेशा याद किया जाएगा : इमरान खान पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन, शोक में डूबा देश एम्स में पूर्व PM वाजपेयी को देखने पहुंचे वेंकैया नायडू-अमित शाह, हालत बेहद नाजुक अटल बिहारी वाजपेयी को देखने AIIMS पहुंच सकते हैं सीएम योगी आदित्यनाथ देवरिया शेल्‍टर होम: SP देवरिया के साथ हटाए गए CO सदर, विभागीय जांच के आदेश

पुरुलिया, बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह गुरुवार को पश्चिम बंगाल के पुरुलिया में थे. यहां उन्होंने टीएमसी के पूर्व सासंद मुकुल रॉय को ममता बनर्जी के खिलाफ प्रमुख योद्धा बताया. पुरुलिया की एक सार्वजनिक सभा में शाह ने कहा, "मैं इस मंच पर मुकुल रॉय समेत मौजूद सभी का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं, जो पहले टीएमसी के साथ जुड़े थे और अब उन्होंने तृणमूल कांग्रेस की सरकार को उखाड़ फेंकने की प्रतिज्ञा ली है."

3 नवंबर 2017 को मुकुल रॉय आधिकारिक तौर पर बीजेपी में शामिल हुए. इससे पहले कुछ महीनों तक उनके मुख्यमंत्री ममता बनर्जी समेत टीएमसी के कई नेताओं से रिश्तों में खटास आ गई थी. मुकुल को पार्टी में शामिल कराए जाने की आधिकारिक घोषणा केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद और बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय की मौजूदगी में हुई थी.

मुकुल ने अक्टूबर में यह कहते हुए इस्तीफा दे दिया था कि टीएमसी अपनी विचारधारा खो चुकी है. ममता बनर्जी के बाद टीएमसी में मुकुल बड़ा नाम थे. उन्हें ममता का दाहिना हाथ माना जाता रहा था.

शाह ने गुरुवार को कहा, "इन दिनों ममता जी महागठबंधन में व्यस्त हैं. उन्हें वह करने दीजिए, हमें कोई दिक्कत नहीं है लेकिन ममता जी, मैं आपको बताना चाहता हूं कि आपके नीचे से जमीन खिसक रही है. पहले बंगाल की चिंता कीजिए और फिर महागठबंधन के बारे में सोचिएगा."

तृणमूल सुप्रीमो पर जनता के लोकतांत्रिक अधिकार छीनने का आरोप लगाते हुए शाह ने कहा, "पंचायत चुनावों में ममता की कुर्सी की पर कोई खतरा नहीं था, इसके बाद भी बीजेपी के कुछ कार्यकर्ताओं पर हमले किए गए और कुछ की हत्या कर दी गई. चुनावों के दौरान 1,341 बीजेपी कार्यकर्ता घायल हुए और 20 की क्रूरता से हत्या कर दी गई. आज मैं उन्हें पुरुलिया से चुनौती देता हूं कि मेरे पार्टी कार्यकर्ताओं का त्याग बेकार नहीं जाएगा."

बीते महीने दो बीजेपी कार्यकर्ता संदिग्ध हालत में मृत पाए गए थे. मारे गए लोगों में से एक की टीशर्ट पर लिखा हुआ था कि 18 साल की उम्र में ही बीजेपी में शामिल होने के कारण यह परिणाम है.

शाह ने कहा, "एक समय था जब लोग बंगाल में रबींद्र संगीत सुनना पसंद करते थे लेकिन अब वह सिर्फ बम की आवाज सुनते हैं. बंगाल में कोई उद्योग नहीं है. बंगाल में आप इन दिनों सिर्फ बम बनाने वाली फैक्ट्रियां देख सकते हैं. टीएमसी के सिन्डकेट केंद्र सरकार की ओर से भेजे जाने वाले सारा पैसा खा लेते हैं. हमने 19 राज्य जीते हैं और अब साल 2019 के चुनाव में बीजेपी का विजय रथ बंगाल में बदलाव लाएगा."

ममता पर टिप्पणी करते हुए शाह ने कहा, "आज जब मैं इस सभा के लिए पुरुलिया आ रहा था तो मैंने देखा कि ममता जी के पोस्टर दोनों ओर हिन्दी में लगे हुए थे. आप समझ सकते हैं कि यह बंगाली में क्यों न लिख कर हिन्दी में लिखा गया था. मैं उनके पूछना चहता हूं कि वह क्यों केंद्र सरकार की स्कीम जैसे हेल्थकेयर, राशन, एजुकेशन, हाउसिंग आदि के सामने बाधा बन कर खड़ी हैं. यह सब बंगाल के गरीबों के लिए है. क्यों पुरुलिया की महिलाओं को 1 बाल्टी पानी के लिए 4 किलोमीटर तक का सफर करना पड़ता है?"

'इबार बांग्ला' के मिशन से इस बार बीजेपी का लक्ष्य है कि वह 2019 के लोकसभा चुनाव में 42 में से 23 सीटें जीत सके. पार्टी फिलहाल राज्य की आसनसोल और दार्जिलिंग की सीट ही जीत सकी है. साल 2014 में आसनसोल से बाबुल सुप्रियो और दार्जिलिंग से एसएस अहलुवालिया ने जीत दर्ज की थी. वहीं सीपीएम ने 34 सीट, कांग्रेस और सीपीएम ने 2-2 सीट जीती थी. पंचायत चुनाव में बीजेपी को उत्तरी बंगाल और जंगलमहल से अच्छी बढ़त मिली थी.

शाह ने कहा कि मैंने आज तारापीठ में पूजा की और देवी से प्रार्थना की कि बंगाल में मेरे कार्यकर्ताओं को और ताकत दीजिए ताकि वो बंगाल के सत्तारूढ़ टीएमसी सरकार को हटा सकें.



खबर हटके | और पढ़ें


लखीमपुर खीरी, आपने पुलिस का असलहा गुम होते सुना होगा. वर्दी चोरी होते हुए सुनी होगी. गहने पैसे चोरी करते सुना होगा, पर पुलिस की पगार गुम होने की खबर...

आगरा, उत्तर प्रदेश के आगरा में सड़क निर्माण में भयंकर लापरवाही का मामला सामने आया है. यहां कंस्ट्रक्शन कंपनी के कर्मचारियों ने एक सोते हुए कुत्ते के ऊपर ही सड़क बनवा दी. गर्म चारकोल और कंक्रीट की वजह से कुत्ते की मौके पर ही जान चली गई. पुलिस ने कंस्ट्रक्शन...

फैजाबाद, फैजाबाद जिला अस्पताल की एक तस्वीर हम आपको दिखाते हैं जिसको देखकर आपको लगेगा कि मानवों में भले ही मानवता कम होती जा रही है लेकिन मवेशियों में मानवता अभी भी बरकरार है. फैजाबाद जिला अस्पताल के जनरल वार्ड के सामने पड़े एक घायल पर आने जाने वाले लोगों...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 21130