बड़ी ख़बरें

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन, शोक में डूबा देश एम्स में पूर्व PM वाजपेयी को देखने पहुंचे वेंकैया नायडू-अमित शाह, हालत बेहद नाजुक अटल बिहारी वाजपेयी को देखने AIIMS पहुंच सकते हैं सीएम योगी आदित्यनाथ देवरिया शेल्‍टर होम: SP देवरिया के साथ हटाए गए CO सदर, विभागीय जांच के आदेश बरेली समेत तीन एयरपोर्ट के नाम बदलने की तैयारी में योगी सरकार, केन्द्र को भेजा प्रस्ताव लखनऊ के बाद सोनभद्र को मिला यूपी का दूसरा सबसे ऊंचा राष्ट्रध्वज अंतरिक्ष मिशन लेकर अर्थव्यवस्था तक, लाल किला से पीएम मोदी के भाषण की बड़ी 10 बातें स्वतंत्रता दिवस: 9 करोड़ पौधे लगाकर इतिहास रचने की तैयारी में उत्तर प्रदेश स्वतंत्रता दिवस पर योगी सरकार ने किया मुख्यमंत्री उत्कृष्ट सेवा पुलिस पदक का ऐलान आजादी का 72वां साल: क्यों शहीद घोषित नहीं हो सके भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु!

लखनऊ, समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने साफ कर दिया है कि बसपा के साथ उनकी पार्टी का गठबंधन किसी भी कीमत पर जारी रहेगा. उनका कहना है कि यह गठबंधन सिर्फ लोकसभा चुनाव तक ही नहीं, बल्कि उसके बाद भी जारी रहेगा. अखिलेश ने कहा है कि बीजेपी के साथ उनकी लड़ाई लंबी है. बीजेपी की हार सुनिश्चित हो इसके लिए वह कोई भी त्याग करने को तैयार हैं. हालांकि, बीजेपी ने अखिलेश के इस बयान को हताशा से भरा बताते हुए कहा है कि उनका आत्मविश्वास समाप्त हो चुका है.

गौरतलब है मैनपुरी में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए अखिलेश ने इशारों ही इशारों में कह दिया कि अगर जरुरत पड़ी तो वे गठबंधन में जूनियर पार्टनर की भूमिका भी निभाने को तैयार हैं.

बकौल अखिलेश, “यह लड़ाई लम्बी है. मैं ये आज कहता हूं कि बहुजन समाज पार्टी से गठबंधन जारी रहेगा. अगर दो-चार सीटें ऊपर-नीचे रहीं तो हम समाजवादी लोग त्याग करने में पीछे नहीं हटेंगे. बसपा को समर्थन देकर बीजेपी को नीचे ले जाने का काम करेंगे. हमने गठबंधन ऊपर से किया है. वह नीचे स्तर पर बसपा कार्यकर्ताओं का सहयोग करें, उनका साथ दें और उनसे गठबंधन करें.”

अखिलेश यादव के इस बयान के बाद सियासी महकमें में चर्चा आम है कि फिलहाल इस सपा-बसपा का गठबंधन रुकने वाला नहीं है. बीजेपी के लिए यह स्थिति किसी चुनौती से कम नहीं है. क्योंकि उपचुनाव में चार सीटों पर सपा-बसपा का प्रयोग सफल रहा है. उपचुनाव के नतीजों के बाद समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष को लगने लगा है कि बीजेपी को रोकने के लिए उसे बसपा का जूनियर पार्टनर भी बनना पड़े तो उसे मंजूर है.

अखिलेश का आत्मविश्वास समाप्त हो चुका है: बीजेपी
अखिलेश के इस बयान पर बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने कहा कि इस बयान से साफ है कि उनका आत्मविश्वास समाप्त हो चुका है. जब मुलायम सिंह यादव सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष हुआ करते थे, उनके नेतृत्व में पार्टी ने 35 से ज्यादा लोक सभा की सीटें उत्तर प्रदेश में जीतीं थीं और विधानसभा में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई थी. लेकिन जब से अखिलेश यादव राष्ट्रीय अध्यक्ष बने हैं, समाजवादी पार्टी लगातार नीचे गिर रही है. हालात ऐसे बन गए हैं कि यूपी में नंबर 2 की पार्टी तीसरे चौथे नंबर की पार्टी बनने को तैयार है.

राकेश त्रिपाठी ने आगे कहा कि सपा-बसपा गठबंधन से भी बीजेपी की सेहत पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा. उन्होंने कहा कि कैराना उपचुनाव से यह स्पष्ट हो गया है कि 19 फ़ीसदी वोटिंग कम होने के बाद भी बीजेपी को सिर्फ 4 फ़ीसदी कम वोट मिले और गठबंधन सिर्फ 44 हजार वोटों से उन्हें हरा पाया. हमें पूरा विश्वास है कि जब आम चुनाव होंगे और उपचुनावों के नतीजे यह बता रहे हैं कि एकजुट होने के बाद भी ये बीजेपी को हरा नहीं पाएंगे. उन्होंने कहा कि वैसे इस गठबंधन के होने की संभावना भी काफी कम ही है. चाहे अखिलेश कितना भी त्याग और बलिदान की बात कर लें, गठबंधन नहीं होगा.
 



खबर हटके | और पढ़ें


लखीमपुर खीरी, आपने पुलिस का असलहा गुम होते सुना होगा. वर्दी चोरी होते हुए सुनी होगी. गहने पैसे चोरी करते सुना होगा, पर पुलिस की पगार गुम होने की खबर...

आगरा, उत्तर प्रदेश के आगरा में सड़क निर्माण में भयंकर लापरवाही का मामला सामने आया है. यहां कंस्ट्रक्शन कंपनी के कर्मचारियों ने एक सोते हुए कुत्ते के ऊपर ही सड़क बनवा दी. गर्म चारकोल और कंक्रीट की वजह से कुत्ते की मौके पर ही जान चली गई. पुलिस ने कंस्ट्रक्शन...

फैजाबाद, फैजाबाद जिला अस्पताल की एक तस्वीर हम आपको दिखाते हैं जिसको देखकर आपको लगेगा कि मानवों में भले ही मानवता कम होती जा रही है लेकिन मवेशियों में मानवता अभी भी बरकरार है. फैजाबाद जिला अस्पताल के जनरल वार्ड के सामने पड़े एक घायल पर आने जाने वाले लोगों...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 151154