बड़ी ख़बरें

लखनऊ विश्वविद्यालय मामला : राज्यपाल से मिला सपा नेताओं का प्रतिनिधिमंडल इस मामले में शाहरुख पर बिल्कुल भरोसा नहीं करतीं गौरी खान! तीसरे टी20 में रोहित शर्मा नहीं, 18 गेंदों ने किया इंग्लैंड का 'काम-तमाम'! थाईलैंडः बौद्ध भिक्षु रह चुका है गुफा में फंसा कोच, बच्चों को इतने दिन यूं रखा जिंदा ब्रिटेन में घर मेरे नाम पर नहीं, कोई इन्‍हें छू भी नहीं सकता: विजय माल्‍या कुख्यात डॉन मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में गोली मारकर हत्या, योगी ने दिए न्यायिक जांच के आदेश बुरहान की दूसरी बरसी पर हिज्बुल में शामिल हुआ IPS ऑफिसर का भाई, मेडिकल की कर रहा था पढ़ाई नाम में क्‍या रखा है? इन आशा वर्कर्स से पूछिए जो इसी नाम का कंडोम बांटती हैं तो ऐसे प्रेम प्रकाश सिंह बन गया माफिया डॉन 'मुन्ना बजरंगी', ये अब तक की 'पूरी कहानी' द. कोरियाई राष्ट्रपति के साथ आज नोएडा आ रहे पीएम मोदी, देंगे सबसे बड़ी मोबाइल फैक्ट्री की सौगात

नई दिल्ली, बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से बीएस येदियुरप्पा की मुलाकात के बाद पार्टी के अंदरूनी सूत्रों ने साफ किया कि केंद्रीय नेतृत्व की कांग्रेस-जेडी (एस) की सरकार को 'गिराने' में दिलचस्पी नहीं है.

दरअसल येदियुरप्पा ने अमित शाह से सोमवार को अहमदाबाद में मुलाकात की थी. येदियुरप्पा के साथ बीजेपी के प्रदेश विधायक बसवराज बोम्मई भी मौजूद थे. शाह और येदियुरप्पा की बातचीत करीब 1 घंटे तक चली. इस बैठक के बाद उन अटकलों पर विराम लग गया, जिसमें कहा जा रहा था कि बीजेपी मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी को पद से 'हटा' कर येदियुरप्पा को सीएम बनाने की तैयारी में है.

बीजेपी से जुड़े सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस और जेडी (एस) के 20 असंतुष्ट विधायक उनके संपर्क में हैं. राज्य के कुछ नेताओं ने केंद्रीय नेतृत्व को सलाह दी थी कि वह इस मौके का 'फायदा' उठाए. हालांकि राष्ट्रीय नेतृत्व ने ऐसा कोई कदम न उठाने की चेतावनी दी है. वहीं येदियुरप्पा को सलाह दी गई है कि वह सरकार के 'खुद' गिरने का इंतजार करें.

कर्नाटक के एक वरिष्ठ बीजेपी नेता ने कहा, 'हमें बहुमत साबित करने के लिए 16 विधायकों की जरूरत है. हालांकि हाईकमान इसमें रुचि नहीं ले रहा, क्योंकि अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में यह हमारे खिलाफ काम कर सकता है. हमें उम्मीद है कि जेडी (एस) और कांग्रेस सरकार कई विरोधाभासों के चलते खुद ही गिर जाएगी.'

येदियुरप्पा ने अमित शाह को राज्य की मौजूदा राजनीतिक हालात के बारे में जानकारी दी. उन्होंने बीजेपी अध्यक्ष को बताया कि पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया की सियासत की वजह से यह गठबंधन सरकार ज्यादा वक्त तक चलती नहीं दिख रही है.

JDS-कांग्रेस कोआर्डिनेशन कमेटी के अध्यक्ष सिद्धारमैया ने खुलकर कुमारस्वामी के बजट और उनके किसानों के कर्ज माफी को लेकर उनके रुख खुलेआम विरोध किया था. इसके बाद कुमारस्वामी ने उनको जवाब देते कहा कि वह किसी की दया पर नहीं और सीएम की कुर्सी 'खैरात' नहीं है.

दिलचस्प बात यह है कि बीजेपी का फिलहाल ज्यादा ध्यान कांग्रेस पर ही है, जबकि वह जेडी (एस) के खिलाफ ज्यादा बोलने से बचती दिख रही है. ऐसे में अटकलें लगाई जा रही हैं कि बीजेपी ने जेडी (एस) के साथ जाने का विकल्प बचा रखा है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कुमारस्वामी से बीते 1 महीने में 2 बार मिल चुके हैं. बीजेपी सूत्रों के अनुसार लोकसभा चुनाव में जेडी (एस)और बीजेपी का गठबंधन 28 में से 25 सीटें जीत सकता है. वह चाहते हैं कि लोकसभा चुनाव के पहले सीट बंटवारे के मुद्दे पर यह राज्य की मौजूदा गठबंधन सरकार खुद ही गिर जाए.



खबर हटके | और पढ़ें


लखीमपुर खीरी, आपने पुलिस का असलहा गुम होते सुना होगा. वर्दी चोरी होते हुए सुनी होगी. गहने पैसे चोरी करते सुना होगा, पर पुलिस की पगार गुम होने की खबर...

आगरा, उत्तर प्रदेश के आगरा में सड़क निर्माण में भयंकर लापरवाही का मामला सामने आया है. यहां कंस्ट्रक्शन कंपनी के कर्मचारियों ने एक सोते हुए कुत्ते के ऊपर ही सड़क बनवा दी. गर्म चारकोल और कंक्रीट की वजह से कुत्ते की मौके पर ही जान चली गई. पुलिस ने कंस्ट्रक्शन...

फैजाबाद, फैजाबाद जिला अस्पताल की एक तस्वीर हम आपको दिखाते हैं जिसको देखकर आपको लगेगा कि मानवों में भले ही मानवता कम होती जा रही है लेकिन मवेशियों में मानवता अभी भी बरकरार है. फैजाबाद जिला अस्पताल के जनरल वार्ड के सामने पड़े एक घायल पर आने जाने वाले लोगों...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 144352