बड़ी ख़बरें

अखिलेश ने भाजपा की केंद्रीय सरकार को दिया ये ‘खास नाम’ उद्धव ने जारी किया CM फडणवीस का टेप, बीजेपी बोली- क्लिप से हुई छेड़छाड़ OPINION | चार साल में मजबूत हुआ ब्रांड मोदी पर अब भी है अच्छे दिन का इंतजार पंचकुला दंगे के पीछे था खुद राम रहीम का हाथ, अब चलेगा देशद्रोह का मुकदमा मेरठ की किनौनी शुगर मिल में विस्‍फोट, चार लोगों के मारे जाने की आशंका मोदी सरकार ने विकास के हर काम को धर्म और जाति से ऊपर उठकर देखा: CM योगी CBSE 12th result 2018: यूपी में मेघना, अनुष्का और बलबीर ने किया टाॅप PM मोदी के 4 साल पूरे होने पर बोलीं मायावती, हर मोर्चे पर फेल हुई केंद्र सरकार CBSE 12th Result 2018: आज आएगा बारहवीं का रिजल्ट, ऐसे करें cbse.nic.in पर चेक आयरलैंडः भारतीय महिला की मौत के 6 साल बाद गर्भपात कानून बदलने के लिए हुई वोटिंग

गुरुग्राम: भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली का मानना है कि पूरी तरह से फिट रहने पर ही वह मैदान और मैदान के बाहर मिलने वाली चुनौतियों का सामना कर पाते हैं. कोहली ने इसके साथ ही भारत की एक-तिहाई जनसंख्या द्वारा पिछले एक साल में एक बार भी शारीरिक संबंधी गतिविधियों में हिस्सा न लेने पर हैरानी जताई है. प्यूमा इंडिया द्वारा किए गए एक शोध में यह स्पष्ट हुआ है कि देश की एक-तिहाई जनसंख्या ने पिछले एक साल में एक भी बार शारीरिक संबंधी गतिविधियों में हिस्सा नहीं लिया. प्यूमा इंडिया की ओर से किए गए इस अध्ययन का उद्देश्य देश में शारीरिक गतिविधि और खेल के प्रति रुचि को समझना था.

54 प्रतिशत लोगों ने पिछले एक साल में एक बार भी शारीरिक गतिविधि नहीं की
शोध ने अनुसार, गुडगांव में स्थिति और भी चिंताजनक है, जहां 54 प्रतिशत लोगों ने पिछले एक साल में एक बार भी शारीरिक गतिविधि नहीं की. शारीरिक गतिविधि में इनडोर-आउटडोर की जाने वाली गतिविधियों- जैसे दौड़ना, चलना और खेलना आदि शामिल हैं. इसमें 57 प्रतिशत लोगों ने पिछले एक साल में कोई भी खेल नहीं खेला. 

गुडगांव में हुए सर्वेक्षण में शामिल 72 प्रतिशत लोगों ने पिछले एक साल में कोई भी खेल नहीं खेला
गुडगांव में हुए सर्वेक्षण में शामिल 72 प्रतिशत लोगों ने पिछले एक साल में कोई भी खेल नहीं खेला. किसी भी प्रकार की गतिविधि में हिस्सा नहीं लेने वाले 58 प्रतिशत लोगों ने इसका मुख्य कारण समय की कमी को बताया. इन परिणामों पर बयान में कोहली ने कहा, "यह चैंकानेवाली बात है कि देश की एक-तिहाई जनसंख्या ने पिछले एक साल में कोई भी शारीरिक गतिविधि नहीं की. 

विराट ने कहा कि वह छुट्टियों में भी जिम जाना नहीं छोड़ते
जब आप शारीरिक रूप से चुस्त होते हैं, तो आप चुनौतियों का सामना करने के लिए ज्यादा ऊजार्वान होते हैं. मैंने व्यक्तिगत रूप से इसका अनुभव लिया है और इसलिए मैं एक चुस्त जीवनशैली में भरोसा करता हूं." विराट ने कहा कि वह छुट्टियों में भी जिम जाना नहीं छोड़ते. दो घंटे तक वह जिम में पसीना बहाते हैं. उन्होंने कहा, "मैं चाहे सीरीज खेलता रहूं या ब्रेक पर रहं. 

मैं अपना अनुशासन बिगड़ने नहीं देता. मेरे फिटनेस का सीधा प्रभाव मेरे खेल पर पड़ता है. इसीलिए, मैं कड़ा प्रशिक्षण करता हूं और अपनी डाइट का सख्ती से पालन करता हूं." शोध के अनुसार, 89 प्रतिशत प्रतिभागियों के पिछले एक माह में कम से कम एक बार खेल खेलने के आंकड़ों के साथ गोवा सूची में सर्वोच्च स्थान पर रहा. इसके बाद हैदराबाद और मुंबई शामिल हैं.

गुरुग्राम, रायपुर और पटना इस सूची में काफी नीचे हैं, जहां इन शहरों के 18 प्रतिशत, 15 प्रतिशत और 12 प्रतिशत लोग पिछले एक माह में कम से कम एक बार खेले. इस मौके पर प्यूमा इंडिया के प्रबंधन निदेशक अभिषेक गांगुली ने कहा, "अध्ययन में भारत में शारीरिक गतिविधि के बारे में चैंकाने वाली बातें सामने आई हैं. यह आवश्यक है कि इस स्थिति के समाधान के लिए सही कदम उठाए जाएं। खेल खेलना एक सहज और प्रभावशाली समाधान है, जिसे दैनिक जीवन में क्रियान्वित किया जा सकता है."

खबर हटके | और पढ़ें


बोधगया, बोधगया सीरियल ब्लास्ट मामले में चार साल 10 माह 12 दिन के बाद शुक्रवार एनआईए कोर्ट का फैसला आएगा. मॉर्निंग कोर्ट में साढ़े नौ बजे के बाद फैसला आने...

लखनऊ, उन्नाव रेप केस में सीबीआई को जांच करते करीब एक महीने से भी ज्यादा हो चुके हैं. सूत्रों के अनुसार सीबीआई के पास इस बात के 'ठोस सबूत' हैं, जिससे ये कहा जा सके कि पुलिस बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के साथ मिलकर काम कर रही थी.

बीजेपी विधायक...

हम हर दिन होने वाली घटनाओं को अपने दिमाग की तह में बिठा लेते हैं, समय बितने के साथ कभी-कभी हम उनको याद भी करते हैं. लेकिन हमारे याददाश्त की भी एक सीमा है.

वक्त के साथ-साथ हम बहुत सी बातें भूल भी जाते हैं. इसे मेमोरी लॉस कहते हैं और...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 130585