बड़ी ख़बरें

समाजवादी पार्टी देश की सबसे अमीर क्षेत्रीय पार्टी, 32 दलों को पछाड़ा मदरसों में होगी NCERT पाठ्यक्रम से पढ़ाई, अब हिंदी-अंग्रेजी की भी तालीम योगी के विधायक के पास दुबई से आया मैसेज, मांगी गई 10 लाख की रंगदारी पीएम मोदी की बागपत सभा पर चुनाव आयोग पहुंची RLD, तत्काल रोक की मांग मंत्री राजभर के बेटे ने कहा, 'सरकार बनी तो रेप करने वाले का कटवा दूंगा हाथ!' केरल के एक कुएं से फैला निपाह वायरस! कर्नाटक में भी मिले दो संदिग्ध मरीज देवगौड़ा ने उद्धव ठाकरे को शपथ समारोह में बुलाया, वे बोले- उपचुनाव में बिजी हूं पटरियों के रास्ते दूसरे प्लेटफॉर्म पर जाने लगा शख्स, बाल-बाल बची जान शार्दुल को बैटिंग पर भेजने के पहले धोनी ने दिया था ये गुरुमंत्र और हो गया कमाल आज से शुरू करें ये 8 काम, बढ़ती महंगाई में भी नहीं होगी पैसों की टेंशन

जयपुर: हार की हैट्रिक के बाद जीत की राह पर लौटे राजस्थान को आज (11 मई) यहां इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2018) के 'करो या मरो' के मुकाबले में चेन्नई की मजबूत चुनौती का सामना करना है. लगातार तीन हार ने टीम की किस्मत लगभग तय कर दी है लेकिन इसके बावजूद राजस्थान की टीम ने यहां पिछले मैच में पंजाब को 15 रन से हराकर मामूली उम्मीद को जीवंत रखा है. राजस्थान को हालांकि अगर नॉकआउट में जगह बनानी है तो उसे अपने खेल के प्रत्येक पहलू में सुधार करने और बाकी मैचों में एकजुट होकर प्रदर्शन करने की जरुरत है. आज के मैच में राजस्थान के पास दोनों टीमों के बीच पुणे में हुए पिछले मैच में मिली 64 रन की हार का बदला चुकता करने का भी मौका होगा. 

मौजूदा सत्र में राजस्थान का प्रदर्शन काफी प्रभावी नहीं रहा है और टीम 10 मैचों में सिर्फ आठ अंक के साथ छठे स्थान पर चल रही है. प्लेऑफ में जगह बनाने की उम्मीदें बरकरार रखने के लिए अजिंक्य रहाणे की अगुआई वाली टीम को आज के मैच में हर हाल में जीत दर्ज करनी होगी. इस मैच में हार टीम को नॉकआउट की दौड़ से बाहर कर देगी. 

मेजबान टीम ने अपने मैदान पर वापसी की है जहां मौजूदा सत्र में उसने चार में से तीन जीत दर्ज की हैं और कल के मैच में यह संभवत: टीम के पक्ष में रहेगा. राजस्थान को मौजूदा सत्र में अपने बल्लेबाजों और गेंदबाजों के खराब प्रदर्शन का खामियाजा भुगतना पड़ा है.

कप्तान अजिंक्य रहाणे और संजू सैमसम के औसत प्रदर्शन के अलावा टीम को इंग्लैंड के स्टार ऑलराउंडर बेन स्टोक्स और राहुल त्रिपाठी के खराब प्रदर्शन का नुकसान उठाना पड़ रहा है और टीम के बल्लेबाजों को सुपरकिंग्स की मजबूत टीम के खिलाफ एकजुट होकर प्रदर्शन करना होगा. 

इंग्लैंड के विकेटकीपर जोस बटलर ने पंजाब के खिलाफ 58 गेंद में 82 रन की पारी खेलकर टीम का स्कोर आठ विकेट पर 158 रन तक पहुंचाया. टीम इसके बाद कृष्णप्पा गौतम, न्यूजीलैंड के स्पिनर ईश सोढ़ी और जोफ्रा आर्चर की बदौलत इस लक्ष्य का बचाव करने में सफल रही. 

दूसरी तरफ सीएसके की टीम 10 मैचों में 14 अंक के साथ दूसरे स्थान पर है और बाकी बचे चार मैचों में एक जीत प्ले आफ में उसकी जगह पक्की कर देगी. दो साल के निलंबन के बाद वापसी कर रही चेन्नई की टीम कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की अगुआई में बेहतरीन फॉर्म में है. 

टीम के बल्लेबाज बेहतरीन फॉर्म में हैं लेकिन गेंदबाजी टीम की चिंता का सबब है. बेंगलुरु के खिलाफ पिछले मैच में हालांकि गेंदबाजों ने प्रभावित किया. टीम ने बेंगलुरुको नौ विकेट पर 127 रन पर रोकने के बाद चार विकेट से जीत दर्ज की. बाएं हाथ के स्पिनर रविंद्र जडेजा ने 18 रन देकर तीन जबकि अनुभवी हरभजन सिंह ने 22 रन देकर दो विकेट चटकाए. 

लुंगी एनगिडी, डेविड विली और शार्दुल ठाकुर की तेज गेंदबाजी जोड़ी को हालांकि चोटिल दीपक चाहर की गैरमौजूदगी में अधिक जिम्मेदारी लेनी होगी. चेन्नई के बल्लेबाज फॉर्म में हैं. अंबाती रायुडू, ऑस्ट्रेलिया के शेन वॉटसन, वेस्टइंडीज के ड्वेन ब्रावो, कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और सुरेश रैना ने समय-समय पर उम्दा पारियां खेली हैं. रायुडू 10 मैचों में 423 रन के साथ मौजूदा सत्र में सर्वाधिक रन बनाने वालों की सूची में तीसरे स्थान पर हैं. 

कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने अपने लंबे छक्कों के साथ एक बार फिर पुराने दिनों की याद ताजा करके आलोचकों को करार जवाब दिया है. वह तीन अर्धशतक के साथ अब तक 360 रन जोड़ चुके हैं और सर्वाधिक रन बनाने वालों की लिस्ट में सातवें स्थान पर हैं.

खबर हटके | और पढ़ें


लखनऊ, उन्नाव रेप केस में सीबीआई को जांच करते करीब एक महीने से भी ज्यादा हो चुके हैं. सूत्रों के अनुसार सीबीआई के पास इस बात के 'ठोस सबूत' हैं,...

हम हर दिन होने वाली घटनाओं को अपने दिमाग की तह में बिठा लेते हैं, समय बितने के साथ कभी-कभी हम उनको याद भी करते हैं. लेकिन हमारे याददाश्त की भी एक सीमा है.

वक्त के साथ-साथ हम बहुत सी बातें भूल भी जाते हैं. इसे मेमोरी लॉस कहते हैं और...

अगर आप से कहा जाए कि आप आंखों पर पट्टी बांधकर किताब पढ़ें तो आप सोच में पड़ जाएंगे कि ऐसा कैसे मुमकिन है. बेशक ये दूसरों के लिए नामुमकिन सी चीज़ है पर अब्दुल बिलाल खान के लिए बाएं हाथ का खेल है. बिलाल आंखों पर पट्टी बांधकर ना...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 129490