बड़ी ख़बरें

बीजेपी हेडक्वार्टर लाया गया वाजपेयी का पार्थिव शरीर, शाम 4 बजे होगा अंतिम संस्कार अटल बिहारी वाजपेयी के सम्मान में सुप्रीम कोर्ट में आज 1 बजे तक ही होगा कामकाज 7 दशक तक लखनऊ की 'रगों' में 'बहते' रहे अटल, हर सड़क पर बिछी हैं यादें अटल जी के निधन के शोक में आज यूपी में सार्वजनिक अवकाश, बाजार भी रहेंगे बंद पाकिस्‍तान भी होगा अटल जी के अंतिम संस्‍कार में शामिल, यह नेता करेगा शिरकत भारत-पाक संबंधों के सुधार के लिए वाजपेयी जी के प्रयासों को हमेशा याद किया जाएगा : इमरान खान पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन, शोक में डूबा देश एम्स में पूर्व PM वाजपेयी को देखने पहुंचे वेंकैया नायडू-अमित शाह, हालत बेहद नाजुक अटल बिहारी वाजपेयी को देखने AIIMS पहुंच सकते हैं सीएम योगी आदित्यनाथ देवरिया शेल्‍टर होम: SP देवरिया के साथ हटाए गए CO सदर, विभागीय जांच के आदेश

थाईलैंड, उत्तरी थाईलैंड की थाम लुआंग गुफा में 15 दिन से फंसे फुटबॉल खिलाड़ियों और उनके कोच इकापोल चांथावोंग पर पूरी दुनिया की नजर टिकी हुई है. 25 साल के इस कोच ने अंधेरी, पानी से भरी गुफा में 15 दिन तक 12 बच्चों का मनोबल बनाए रखा और उन्हें जीवित रखा. इन मुश्किल दिनों में जो एक कला उनके काम आई वह है- मेडिटेशन यानी ध्यान लगाना.

इस दौरान वह खुद भी ध्यान लगाते और अपने स्टूडेंट्स को भी इसके लिए प्रेरित करते. वाइल्ड बोर्स फुटबॉल टीम का कोच बनने से पहले इकापोल करीब एक दशक तक बौद्ध भिक्षु रह चुके हैं. वह अब भी अक्सर मंदिर में रहते हैं और वहां अन्य भिक्षुओं के साथ ध्यान लगाते हैं.

इकापोल की आंटी थाम चांथावोंग कहती हैं, "वह एक घंटे तक ध्यान लगा सकता है. इससे जाहिर है कि उसे और उन लड़कों को अपना दिमाग शांत रखने में मदद मिली होगी."

इकापोल और लड़कों के गुफा में फंसने के करीब 15 दिन बाद रविवार को 4 बच्चों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है. वहीं वहां फंसे कोच समेत 9 लोगों को रेस्क्यू करने के लिए सोमवार को ऑपरेशन दोबारा शुरू होगा.

इकापोल गुफा से बाहर आने वाले आखिरी लोगों में शामिल होंगे. 13 लोगों का यह ग्रुप 23 जून से लापता था. इस ग्रुप में इकापोल एकमात्र वयस्क हैं, उनके अलावा 11 से 16 की उम्र के 12 लड़के शामिल हैं. बाद में लड़कों की साइकिल गुफा के बाहर मिली, इससे अंदाजा लगाया गया कि वे सभी गुफा के अंदर हो सकते हैं.

इन लोगों को 2 जुलाई को गुफा के अंदर खोजा गया था. इससे पहले नौ दिनों तक इकापोल ने पानी से भरी, अंधेरी-खतरनाक गुफा में न सिर्फ सभी बच्चों को जीवित रखा बल्कि उनका मनोबल भी बनाए रखा. उन्होंने अपने हिस्से का खाना भी लड़कों में बांट दिया था. इस बात को लेकर उनकी खासी तारीफ भी हो रही है. हालांकि कुछ लोग इस बात को लेकर उनकी आलोचना भी कर रहे हैं कि उन्होंने बारिश के मौसम में बच्चों को लेकर गुफा के अंदर जाने पर हामी क्यों भरी?

इसके लिए वह खुद को दुर्भाग्यशाली मानते हैं. वह बच्चों को इसलिए बाहर लेकर गए क्योंकि 23 जून की सुबह उनके हेड कोच की एक अपॉइंमेंट थी. इसी दिन यह सभी फंस गए थे.

उन्हें छोटे लड़कों को दोई नांग गैर पर्वत श्रृंखला से घिरे एक फुटबॉल मैदान में ले जाना था, जो कई झरनों और गुफाओं की जगह है और थाई-म्यांमार सीमा से घिरा हुआ था. समूह का ख्याल रखने का निर्देश उन्हें ही दिया गया था.  हेड कोच ने एक सलाह देते हुए कहा था, 'जब आप सफर कर रहे हों तो यह ध्यान रखें कि साइकिल उनके पीछे ही चलाएं ताकि आप पर नजर रखी जा सके.' थाईलैंड की इस घटना ने सभी का ध्यान खींचा. ऑस्ट्रेलिया और फिनलैंड तक से मदद आई. अमेरिकी सरकार से भी इन बच्चों के लिए मदद मिली.

गुफा में फंसे एक बच्चे की मां ने कहा कहा वह कभी इकापोल पर आरोप नहीं लगाएंगी. उन्होंने कहा 'अगर इकापोल साथ नहीं गए होते तो मेरे बच्चे के साथ क्या होता? मैं उन पर कभी आरोप नहीं लगाउंगी.'

इकापोल के साथ कॉफी स्टैंड पर काम करने वाले उनके दोस्त जॉय ने बताया कि उन्होंने 10 साल की उम्र में अपने परिजन खो दिए थे. इसके बाद इकापोल ने बौद्ध भिक्षु की शिक्षा ग्रहण की हालांकि अपनी दादी की देखभाल के लिए उन्होंने मॉनेस्ट्री छोड़ दिया. जॉय ने कहा कि वह खुद से ज्यादा टीम के बच्चों को प्यार करते हैं.

जॉय ने कहा, इकापोल ना तो शराब पीते हैं, ना ही धूम्रपान करते हैं. शनिवार को थाई नेवी ने इकापोल की ओर से लिखी एक चिट्ठी की तस्वीर जारी की थी. इसमें उन्होंने सभी बच्चों के परिजनों से माफी मांगी थी.  इकापोल ने लिखा था, 'मैं बच्चों की देखभाल करने का वादा करता हूं. मैं आप सभी के समर्थन के लिए शुक्रिया अदा करता हूं और मैं माफी मांगना चाहता हूं.'

खबर हटके | और पढ़ें


त्य्र

...

फ्द्ग्फ्ग्द

...

ग्ज्ग्फ्ज

...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 31839