बड़ी ख़बरें

अखिलेश ने भाजपा की केंद्रीय सरकार को दिया ये ‘खास नाम’ उद्धव ने जारी किया CM फडणवीस का टेप, बीजेपी बोली- क्लिप से हुई छेड़छाड़ OPINION | चार साल में मजबूत हुआ ब्रांड मोदी पर अब भी है अच्छे दिन का इंतजार पंचकुला दंगे के पीछे था खुद राम रहीम का हाथ, अब चलेगा देशद्रोह का मुकदमा मेरठ की किनौनी शुगर मिल में विस्‍फोट, चार लोगों के मारे जाने की आशंका मोदी सरकार ने विकास के हर काम को धर्म और जाति से ऊपर उठकर देखा: CM योगी CBSE 12th result 2018: यूपी में मेघना, अनुष्का और बलबीर ने किया टाॅप PM मोदी के 4 साल पूरे होने पर बोलीं मायावती, हर मोर्चे पर फेल हुई केंद्र सरकार CBSE 12th Result 2018: आज आएगा बारहवीं का रिजल्ट, ऐसे करें cbse.nic.in पर चेक आयरलैंडः भारतीय महिला की मौत के 6 साल बाद गर्भपात कानून बदलने के लिए हुई वोटिंग

इलाहाबाद , इलाहाबाद हाईकोर्ट से नोएडा भूमि आवंटन घोटाले के आरोपी विनोद कुमार गोयल को बड़ा झटका लगा है. हाईकोर्ट ने नोएडा भूमि आवंटन घोटाले के आरोपी मेसर्स तृप्ती कंस्ट्रक्शन कम्पनी प्राइवेट लिमिटेड के प्रबन्ध निदेशक विनोद कुमार गोयल की जमानत अर्जी खारिज कर दी है. वहीं हाईकोर्ट ने इसी मामले में नोएडा अथॉरिटी के 3 जूनियर इंजीनियरों राजेश कुमार शर्मा, राम दत्त शर्मा और सुशील कुमार अग्रवाल की जमानत मंजूर कर ली है.

हाईकोर्ट ने तीनों जूनियर इंजीनियरों पर कोई अन्य केस न होने पर रिहाई का भी निर्देश दिया है. यह आदेश जस्टिस रमेश सिन्हा और जस्टिस डीके सिंह की खंडपीठ ने दिया है. गौरतलब है कि नोएडा भूमि आवंटन घोटाले के मुख्य आरोपी यादव सिंह और अन्य आरोपियों के खिलाफ सीबीआई जांच चल रही है. सीबीआई अधिवक्ता ज्ञान प्रकाश का कहना था कि मार्च माह से ही कार्य शुरू कर दिया गया और अक्टूबर में काम पूरा हो गया.

इसके बाद नवम्बर में टेंडर पास कर अधिक रेट लगा कर भुगतान कर दिया गया. जूनियर इंजीनियरों ने गलत रिपोर्ट दाखिल की और अनुचित लाभ पहुंचाया. दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद कोर्ट ने जूनियर इंजीनियरों को जमानत मंजूर कर ली लेकिन कम्पनी के प्रबन्ध निदेशक की अर्जी खारिज कर दी है.

खबर हटके | और पढ़ें


त्य्र

...

फ्द्ग्फ्ग्द

...

ग्ज्ग्फ्ज

...

वीडियो | और पढ़ें


Copyright © 2017 Indian Live 24 Limited.
Visitors . 130660